_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/one-of-the-top-5-south-indian-movie-that-earns-a-lot-of-fortune/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=43757","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

हर भारतीय को संविधान द्वारा दिए अपने इन अधिकारों से अवगत होना जरुरी, जानिए इनके बारे में

संविधान

 

हमारे संविधान में कुछ ऐसे नियम हैं जिनके बारे में अधिकतर लोग नही जानते हैं जबकि यह बहुत ही अहम हैं। जैसे की आप किसी भी छोटे या बड़े होटल में जाकर पानी पी सकते हैं या वहां का टायलेट यूज कर सकते हैं। इस प्रकार के बहुत से कानून हैं जो एक कॉमन मैन को संविधान देता हैं, पर बड़ी संख्या में लोग इनके बारे में जानते ही नहीं हैं। यही कारण हैं कि आज हम आपको यहां कुछ ऐसे ही विशेष कानूनों के बारे में बता रहें हैं जो आपके जीवन के लिए महत्वपूर्ण हैं। आइये अब हम आपको विस्तार से इस बारे में बता दें।

संविधानImage Source:

1 – यदि ड्राइविंग के दौरान आपके खून में एल्कोहल का स्तर 100 मि.ली में 30 मि.ली पाया जाता हैं तो पुलिस वाले आपको मोटर वाहन एक्ट 1988 सेक्शन 185, 202 से तहत बिना किसी वारंट के गिरफ्तार कर सकते हैं।

2 – यदि आप कभी पुलिस स्टेशन में FIR लिखवाने के लिए जाते हैं तो पुलिसकर्मी आपकी FIR लिखने से मना नहीं कर सकता। यदि वह ऐसा करता हैं तो उसको IPC के एक्ट 166 A के तहत 6 माह से 1 वर्ष तक की जेल की सजा हो सकती हैं।

3 – भारत का कोई भी बड़े से बड़ा होटल आपको वहां पानी पीने या टॉयलेट का यूज करने से नहीं रोक सकता हैं। यह “भारतीय सरीउस अधिनियम 1887” नियम का नियम हैं कि ये दोनो कार्य एक भारतीय नागरिक के अधिकार हैं।

संविधानImage Source:

4 – यदि कोई शादीशुदा व्यक्ति किसी अनमैरिड लड़की या विधवा महिला से उसकी मर्जी से संबंध बनाता हैं तो यह अपराध की श्रेणी में नहीं आता हैं। यह “भारतीय दंड सहित व्यभिचार 498” से तहत नियम हैं।

5 – यदि व्यस्क लड़का और लड़की अपनी मर्जी से लिव इन रिलेशन में रहना चाहते हैं तो यह “घरेलू हिंसा अधिनियम 2005” के तहत गैरकानूनी नहीं हैं।

6 – “मातृत्व लाभ अधिनियम 1961” के तहत कोई भी कंपनी किसी गर्भवती महिला को अपने यहां से नौकरी से नहीं निकाल सकती हैं।

Most Popular

To Top