_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/02/","Post":"http://wahgazab.com/more-than-half-of-the-people-of-this-place-of-the-country-are-diabled/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/more-than-half-of-the-people-of-this-place-of-the-country-are-diabled/wah-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/38edcdf172ca4efbca56add1f895924c/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

दक्षिण अफ्रीका में मिला 253 करोड़ का हीरा, जानिये इसके बारे में

दक्षिण अफ्रीका

 

अब तक कई ऐसे हीरे मिल चुके हैं जो विश्व में सबसे बड़े हीरों की श्रेणियों में रखें गए हैं। इसी क्रम में हाल ही में एक और ऐसा ही हीरा मिला है। आपको बता दें कि यह हीरा दक्षिण अफ्रीका की एक खदान में खुदाई के दौरान मिला है। यह हीरा इतना बड़ा है कि इसको विश्व का 5वां सबसे बड़ा हीरा माना गया है। दक्षिण अफ्रीका की लेटसेंग खदान से इस हीरे की खोज जेम डायमंड कंपनी ने बीते सोमवार को की है। इस हीरे की वर्तमान कीमत 253 करोड़ आंकी गई है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह हीरा D-color कैटेगरी का है तथा 910 कैरेट का है। D-color कैटेगरी के हीरों को सबसे शुद्ध माना जाता है। ये रंगहीन हीरे होते हैं तथा इनकी क्वालिटी के हिसाब से ही इनका रंग निर्धारण किया जाता है।

दक्षिण अफ्रीका
Image Source:

इस हीरे के बारे में जेम डायमंड के अधिकारी क्लिफफोर्ड एल्फ़िक बताते हैं कि “2006 से हमने जब लेटसेंग खान का अधिग्रहण किया है तब से अब तक हमें इस खदान से कई महत्वपूर्ण हीरे मिले हैं। इन हीरों में 603 कैरट का लेसोथो प्रॉमिस हीरा भी एक है।” आपको बता दें कि लेसोथो प्रॉमिस को अब तक का सबसे बड़ा हीरा माना जाता है। इसकी खोज कलिनन डायमंड खान में हुई थी। इसका आकार इतना बड़ा था कि इसके 9 टुकड़े कर दिए गए थे। यह हीरा भी दक्षिण अफ्रिका में ही निकला था। वर्तमान में दक्षिण अफ्रीका से विश्व का 5वां सबसे बड़ा हीरा निकला है।

Most Popular

To Top