_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/02/","Post":"http://wahgazab.com/in-this-exceptional-wedding-invitation-is-given-on-leaves-and-gift-includes-planting-of-11111-trees/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/in-this-exceptional-wedding-invitation-is-given-on-leaves-and-gift-includes-planting-of-11111-trees/marriage-pic-1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/38edcdf172ca4efbca56add1f895924c/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

हटकेश्वर महादेव- जानिए लक्ष्मण जी द्वारा स्थापित किए इस शिवालय की रोचक कथा

हटकेश्वर महादेव

वैसे तो भगवान शिव के बहुत से मंदिर अपने देश में है, पर आज जिस मंदिर के बारे में हम आपको बता रहें हैं। उसको प्रभू श्रीराम के भाई लक्ष्मण जी ने स्थापित किया था। माना जाता है कि लक्ष्मण जी द्वारा स्थापित यह विश्व का एकमात्र मंदिर है। रामायण काल से संबंध होने के कारण इस मंदिर की अपनी ऐतिहासिक कहानी है। आज भी इस मंदिर में भक्तो का जमावड़ा लगा रहता है और शिवरात्रि पर यहां लोगों की काफी भीड़ लगी रहती है। आपको बता दें कि यह मंदिर छत्तीसगढ़ प्रदेश की राजधानी रायपुर में है। इस प्राचीन मंदिर का नाम “हटकेश्वर महादेव मंदिर” है।
यह मंदिर खारुन नदी के तट पर स्थित है तथा रायपुर से महज 8 किमी की दूरी पर है। हटकेश्वर महादेव मंदिर का शिवलिंग भी इस मंदिर की तरह ही चमत्कारी है। माना जाता है कि शिवलिंग को देखने मात्र से ही भक्तों की कामनाएं पूरी हो जाती हैं। इस मंदिर को नागर ब्राह्मणों का संरक्षक भी माना जाता है। मंदिर के बाहरी तथा आतंरिक भाग पर बारीक नक्काशी की हुई है जो इस मंदिर की शोभा में चार चांद लगा देती है।

यह है मंदिर से जुड़ी रोचक कथा

हटकेश्वर महादेवImage source:

इस मंदिर से जुड़ी रोचक कथा उस समय की है जब श्रीराम वन गमन कर रहें थे। उस समय जब वे छत्तीसगढ़ के इस हिस्से से गुजर रहें थे। तभी लक्ष्मण जी ने यहां मंदिर की स्थापना का विचार बनाया था। इस मंदिर की स्थापना के लिए हनुमान जी भगवान शिव को लेने के लिए गए थे और उसके बाद वे ब्राह्मणों को इस स्थान पर ले कर आए। मगर तब तक स्थापना का मुहूर्त निकल चुका था इसलिए जिस स्थान पर इस मंदिर की स्थापना की जानी थी, उस स्थान पर न कर के खारुन नदी तट पर कर दी गई। इस प्रकार से आज तक यह मंदिर इस नदी के तट पर स्थापित है।

Most Popular

To Top