हिंदी सिर्फ भाषा नहीं, भविष्य भी बन सकती है

हिंदी बोलना और समझना ज्यादातर भारतीयों के लिए के लिए आसान है। हम ये भी कह सकते हैं कि हिंदी हमारे दिल में बसती है। हिंदी हमें किसी से सीखने की जरुरत नहीं क्योंकि यह काम तो हम बचपन से कर रहे हैं। लेकिन शायद इसी वजह से कई बार हम हिंदी को नज़रअंदाज़ कर जाते हैं। 120 करोड़ की आबादी वाले भारत में 80 करोड़ से ज्यादा लोग हिंदी समझते हैं। जबकि 40 करोड़ लोगों की मुख्य भाषा हिंदी है। सिर्फ 15 करोड़ लोग ही ऐसे हैं जो इंग्लिश समझ पाते हैं। जिनमे से सिर्फ 2-3 करोड़ लोग ही अच्छी तरह से इंग्लिश बोल और समझ पाते हैं।

hindi.

Image Source: http://currentcrime.currentcrime.netdna-cdn.com/

हम में से कई लोग ऐसे हैं जो इंग्लिश सीखने में रात- दिन एक कर देते हैं। महंगे इंग्लिश इंस्टिट्यूट की फीस भरते हैं। लेकिन सिर्फ अपना इंट्रोडक्शन देने के सिवा ज्यादा कुछ नहीं सीख पाते। इंग्लिश सीखना इतना आसान भी नहीं हैं, ज्यादातर वो लोग बहुत अच्छे से इंग्लिश बोल पाते हैं जो बचपन से किसी अच्छे इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढ़े हों। लेकिन भारत जैसे देश में ऐसे स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाना हर माता- पिता के बस की बात नहीं है।

लेकिन इसका ये मतलब बिलकुल नहीं हैं कि सिर्फ इंग्लिश अच्छी न होने के कारण आप अपनी ज़िन्दगी में आगे नहीं बढ़ सकते। अगर आप हिंदी भाषा में माहिर हैं तो ऐसे कई

करियर विकल्प हैं, जिन्हें आप अपने जीवन में अपना सकते हैं –

टीचिंग
हिंदी टीचर्स की जरुरत हर स्कूल और कॉलेज में होती है। इसके अलावा हिंदी मीडियम से पढाई कर रहे छात्रों को भी हिंदी जानने वाले शिक्षकों से शिक्षा दिलवाई जाती है। इसलिए कई लोग टीचिंग को अपना करियर बनाना चाहते हैं।

Hindi teacherImage Source: http://ketehamilton.peoplesnetworknz.info/

विदेशों में टीचिंग
जिस दर से भारत वैश्विक स्तर पर आगे बढ़ रहा है। हर विदेशी कंपनी भारत के साथ व्यापारिक सम्बन्ध बनाना चाहती है। इसी को देखते हुए अब कई कंपनियां भारत में व्यापार आसान करने के लिए हिंदी सीखना चाहती हैं। इसके अलावा दो करोड़ से ज्यादा भारतीय मूल के लोग विदेशों में रहते हैं और वे हिंदी अच्छी तरह जानते हैं। इनमें से कुछ लोग अंग्रेजी अच्छी तरह नहीं समझ पाते हैं। इन लोगों का आपस में संपर्क करने का अच्छा माध्यम हिंदी ही हैं, इसलिए विदेशों में बहुत सारे लोग हिंदी सीखना चाहते हैं।

hindi

मीडिया
तेजी से बढ़ते प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने रोज़गार के कई मौके दिए हैं। इसके अलावा रेडियो और इंटरनेट मीडिया भी काफी तेजी से लोगों के बीच अपनी पकड़ बना रहे हैं। इस क्षेत्र में कंटेंट लिखना और एडिटिंग करना सबसे अहम है। यहां अच्छी हिंदी भाषा का ज्ञान आपके करियर को ऊंचाइयों तक पहुंचा सकता है।

MediaImage Source: http://www.itbriefcase.net/

स्क्रिप्ट और कंटेंट राइटिंग
टेलीविज़न पर हिंदी सीरियल्स की भरमार है। इसके अलावा एडवरटाइजिंग एजेंसी और बॉलीवुड में आजकल स्क्रिप्ट राइटर्स की अच्छी -खासी मांग है। इस क्षेत्र में इतना काम है कि आये दिन स्क्रिप्ट लेखन और कंटेन्ट राइटिंग के लिए हिन्दी के लेखकों को ढेरों अवसर मिलते रहते हैं।

Contan WirtingImage Source: http://www.infinitywebsolutions.biz/

कॉल सेंटर
अब हर कंपनी अपना प्रोडक्ट बेचने के बाद उपभोक्ता को सेवा प्रदान करती है। इसी वजह से आज लगभग हर कंपनी का अपना कॉल सेंटर है, जहां लोग अपनी शिकायते दर्ज करवाते हैं। इन कॉल सेंटर्स में हिंदी बोलने वाले लोगों को काफी नौकरी के अवसर मुहैया कराये जाते हैं।

Call CenterImage Source: http://agiltools.com/

ट्रांसलेशन
ट्रांसलेटर की मांग लगभग हर सरकारी विभाग में होती है। इसके अलावा कई प्राइवेट कंपनियों को अपने व्यापार के विस्तार के लिए भी ट्रांसलेटर की जरुरत पड़ती है। कर्मचारी चयन आयोग सरकारी कार्यालयों में अनुवादकों की मांग को देखते हुए हर साल परीक्षा भी आयोजित करता है। इसमें जूनियर और वरिष्ठ, दोनों तरह के अनुवादक चयनित होते हैं। विदेशी फिल्मों में डबिंग से लेकर संसद तक ट्रांसलेटर की जरुरत पड़ती है।

TRANSLATE on speech bubblesImage Source: http://lareliabletranslations.com/

फ्री-लांसर
अगर आप किसी और डिपार्टमेंट में काम करते हुए भी हिंदी में रूचि रखते हैं, तो फ्री- लान्सिंग एक बेहतर विकल्प है। इसके अलावा हाउस वाइफ्स भी अगर चाहे तो किसी मग्ज़ीन या अखबार के लिए लिखकर, घर बैठे पैसे कमा सकती हैं।

freelancerImage Source: http://blogs.cornell.edu/
To Top