हिमालय की बेटी बछेंद्री पाल को ‘हैप्पी बर्थ-डे’

0
1190

दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर फतह करने वाली देश की पहली महिला बछेंद्री पाल थी। इस बात से सभी अच्छे से वाकिफ होंगे। आज उसी हिमालय की बेटी बछेंद्री पाल जन्मदिन हैं। उनका जन्म 24 मई 1954 को उतराखंड के उत्तरकाेशी जिले के नकुरी गांव में सन 1955 को हुआ था। किसान के परिवार में पैदा हुई इस हिमालय की बेटी ने बी.एड तक पढ़ाई भी की। लेकिन इसके बावजदू भी उन्हें कोई अच्छा रोजगार नहीं मिला। जिसके बाद निराश होकर उन्होंने नौकरी करने की बजाए ‘नेहरू इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेनियरिंग’ कोर्स के लिये आवेदिन किया। जिससे उनके जीवन को नए राह मिली।

bachendri-pal44

एवरेस्ट की ऊंचाई को छूने वाली ये दुनिया की 5वीं महिला पर्वतारोही है। साल 1984 को जब भारत का चौथा एवरेस्ट अभियान स्टार्ट हुआ था। तब उनकी इस टीम में बछेंद्री सहित 7 महिलाएं और 11 पुरूष शामिल थे। जिन्होंने 23 मई 1984 के दिन 8,848 की ऊचांई पर स्थित सागरमाथा यानी की एवरेस्ट पर देश का तिरंगा झंडा लहराया था। इसके बाद उन्होंने साल 1994 में गंगा नदी में हरिद्वार से कोलकात्ता तक 2500 किलोमीटर लंबा नौका अभियान का नेतृत्व भी किया। वहीं हिमालय के गलियारों में नेपाल, लेह, भूटान और सियाचिन ग्लेशियर से होत हुए कराकोरम पर्वत श्रृंखला पर खत्म होने वाला 4000 किलोमीटर लंबा अभियान भी उनके द्वारा ही पूरा किया गया। हाल फिलहाल में वे इस्पात कंपनी टाटा स्टील मे कार्यरत हैं। जहां पर वह चुने हुए लोगों को रोमांचक अभियानो का प्रशिक्षण देती हैं।

bachendri-pal-2-638

हालांकि पेशेवर पर्वतरोही का पेशा अपनाने की वजह से उन्हें अपने परिवार और रिश्तेदारों के विरोध का भी सामना करना पड़ा। लेकिन वह कभी अपने मिशन से पीछे नहीं हटी। जिसका नतीजा आज सबके सामने हैं की दुनिया उन्हें जानती है। बता दें की 1 अगस्त 2014 को देश की इस पहली महिला पर्वतारोही को ईस्ट बंगाल क्लब ने सर्वोच्च सम्मान भारत गौरव से सम्मानित किया था। जिसमें सम्मान स्वरूप उन्हें दो लाख रूपये का चेक दिया गया।

bachendri-pal-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here