_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%a6%e0%a5%8c%e0%a4%b2%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/705a904e083c70cef81a3db17f0d9064/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

आश्चर्य! 4 साल की उम्र में लिया 9वीं क्लास में एडमिशन

कहते है ईश्वरीय शक्ति हर किसी के पास नहीं होती है। ये शक्ति उन्हीं में देखने के मिलती है। जिसके सिर पर खुदा का हाथ होता है और ऐसे ही कारामाती गुण मिले है उत्तर प्रदेश के लखनऊ शहर में रहने वाले तेज बहादुर वर्मा के घर। जहां उनके बच्चों में स्वयं ज्ञान की देवी सरस्वती विराजमान है। इनकी दोनों बेटियों में अपने ज्ञान की अद्भुत प्रतिभा देखने को मिल रही है। जो अपने आप में एक मिसाल बनकर उभर रही है। तेज बहादुर वर्मा की छोटी बेटी अनन्या वर्मा की उम्र महज चार साल सात महीने की है पर उसने अपने बहुमुखी प्रतिभा के दम पर 9वीं क्लास में दाखिला ले एक रिकार्ड बना दिया है।

ananya verma1Image Source:

इतना ही नहीं अनन्या के अलावा इनकी बड़ी बहन सुषमा वर्मा भी ‘वंडर गर्ल’ नाम से मशहूर हैं। इन्होनें महज 15 साल की उम्र में ही एमएससी पास कर पीएचडी में प्रवेश लिया है ।
हालांकि, अनन्या ने 9वीं कक्षा में दाखिला तो लिया है पर वह परीक्षा देने की अनुमति उन्हें तभी मिल सकती है। जब माध्यमिक शिक्षा मंडल इस पर अपनी मुहर लगाएगा। अनन्या के पिता तेज बहादुर वर्मा जो बीबीएयू में सुपरवाइजर हैं। वो अनन्या की योगयता के बारे में बताते है कि उनकी बेटी की इस प्रतिभा के बारें में उन्हें उस समय पता चला, जब वो अपने बेटी के साथ कहीं जा रहे थे तभी उनकी मुलाकात सेंट मीराज कॉलेज के एक परिचित शिक्षक से हुई। उस समय उनके हाथों में कुछ किताबें थी। जिसे देख अन्नया उसे पढ़ने लगी। अनन्या की इस अद्भुत क्षमता को देख शिक्षक अचंभित हो गए।

ananya verma2Image Source:

तब उन्होंने अनन्या के एडमिशन लेने की सलाह दी। स्कूल में 9वीं क्लास के प्रवेश के लिए उसका टेस्ट लिया गया। इसके बाद उसे 9वी कक्षा में प्रवेश लेने की अनुमति मिल गई। अन्नया नें नौवीं क्लास में दखिला लेकर अपनी बहन के समान ही रिकॉर्ड बनाया है।

ananya verma3Image Source:
To Top