_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/05/","Post":"http://wahgazab.com/look-at-the-video-how-a-child-falling-from-the-building-was-saved-by-people/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/the-gifts-received-in-the-royal-wedding-are-being-sold-online/jarry-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/1cad649c94e2db90e72cf2090a3860fa/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

बिना ड्राइवर के चलता हैं यह ट्रैक्टर, किसान के बेटे ने किया नया आविष्कार

पिता की समस्या हल करने को बनाया ट्रैक्टर

 

 

हमारे देश में प्रतिभा की कमी नहीं है, हाल ही में एक किसान के बेटे ने नया अविष्कार कर वह काम कर दिखाया है, जिसको जानकर आप दंग रह जायेंगे। आपको बता दें कि इस लड़के ने एक ऐसे ट्रैक्टर का निर्माण किया है जो बिना किसी ड्राइवर के चलता है। बिना ड्राइवर के चलने वाला ट्रैक्टर बनाने के अलावा इस लड़के ने 27 अन्य आविष्कार भी किये हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह लड़का महज 19 वर्ष का है। इस लड़के नाम योगेश नागर है और यह बीएससी के पहले वर्ष का विद्यार्थी है। यह लड़का अपने परिवार सहित राजस्थान के वारां जिले के अंतर्गत वाले बमोरीकलां गांव में निवास करता है।

पिता की समस्या हल करने को बनाया ट्रैक्टर

पिता की समस्या हल करने को बनाया ट्रैक्टरImage source:

योगेश बताता है कि उसने बिना ड्राइवर के चलने वाला ट्रैक्टर अपने पिता की मदद करने के लिए अविष्कृत किया है। योगेश का कहना है कि उसके घर में खेती के लिए एक ही ट्रैक्टर है और ट्रैक्टर से काम करने के कारण ही उसके पिता के पेट में दर्द ही शिकायत रहने लगी। यही कारण है कि योगेश ने बिना ड्राइवर के चलने वाले ट्रैक्टर को बनाने के लिए काम शुरू कर दिया। इस ट्रैक्टर को बनाने के लिए योगेश ने एक रिमोट आपरेटिंग सिस्टम तैयार किया है। जिसकी सहायता से कोई भी व्यक्ति एक स्थान पर बैठ कर ट्रैक्टर को रिमोट की सहायता से खेत चला कर अपना कार्य आसानी से कर सकता है।

आपको बता दें कि योगेश से पहले भी एक ऐसा ही अविष्कार पंजाब के मोंगा जिले के कुछ छात्रों ने किया था। इन छात्रों ने मोबाइल को रिमोट की तरह काम करने वाला बना दिया था। इस मोबाइल रिमोट की सहायता से एक स्थान पर बैठ कर ट्रैक्टर को चलाया जा सकता था। खैर गांव के लोग योगेश के इस कारनामें को देख कर बहुत हैरान हैं तथा ट्रैक्टर के काम को आसान करने के लिए योगेश को बधाइयां दे रहें हैं।

To Top