_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%a6%e0%a5%8c%e0%a4%b2%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/705a904e083c70cef81a3db17f0d9064/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

मरकर फिर से जीवित हो गया यह व्यक्ति

आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बता रहें हैं जो कि मरकर फिर से जीवित हो उठा है, यह घटना हालही में घटी है और काफी चकित कर देने वाली है। आइये जानते हैं इस पूरी घटना के बारे में।
यह घटना एमपी के खरगोन जिले की है, यहां के निवासी “सुरेश दरवार” की अचानक तबियत खराब हो गई और घबराहट के साथ में उनका बीपी असंतुलित हो गया इसलिए उनको स्थानीय अस्पताल में तुरंत भर्ती करा दिया गया। जिसके बाद में उनको इंदौर रेफर कर दिया गया। इंदौर में सुरेश के बेटे नितिन ने अपने पिता को एक अस्पताल में भर्ती कर दिया, लेकिन उस अस्पताल में देखभाल की सुविधा ठीक न होने के चलते उन्होंने सुरेश दरवार को एक निजी अस्पताल में शिफ्ट करा दिया।

man alive after death1Image Source:

अस्पताल के डाक्टरों ने सुरेश दरवार की तबियत को बहुत नाजुक बताया। इसके बाद उनके इलाज के लिए पैसों को भी जमा कर दिया गया। डाक्टरों ने इलाज से पहले सुरेश दरवार का दुबारा परीक्षण किया, पर अब सुरेश मृत हो चुके थे और डाक्टरों ने इसकी सूचना उनके परिजनों को दे दी।

यह जानकारी मिलने के बाद में सुरेश के घर में अंतयेष्टि की तैयारी होने लगी और इधर सुरेश का शव परिजन इंदौर से घर की और ले चले, पर रास्ते में ही सुरेश के शरीर में कुछ हलचल हुई और उन्होंने आंखे खोल दी। घर पंहुचे सुरेश ने जब अपने अंतिम संस्कार की तैयारियां देखी तो वो मुस्कुरा उठे और उनको सही पाकर घर के परिजन भी खुश हो गए।

To Top