विजेंदर सिंह से भारत में भिड़ने को बेताब हैं आमिर खान!

मुक्केबाजी में भारत की शान और हरियाणा का लाल विजेंदर सिंह, जिसने भिवानी जिले के काणुवास गांव से निकलकर विश्वभर में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। वह आज के वक्त में किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। ऐसे में आपको जानकर हैरानी होगी कि ब्रिटेन के पेशेवर मुक्केबाज आमिर खान ने विजेंदर से मुकाबला करने की इच्छा जताई है। इस वक्त ब्रिटेन के ये पेशेवर मुक्केबाज आमिर खान मिडिलवेट में होने वाले अपने फर्स्ट मुकाबले की तैयारियों में जोर-शोर से लगे हैं। वह भारत में ही विजेंदर सिंह से भिड़ने का मन बना रहे हैं।

ये इच्छा जताते हुए उन्होंने कहा कि वह मेक्सिको के कानेलो अल्वारेज के खिलाफ़ बहुप्रतीक्षित डब्ल्यूबीसी खिताबी मुकाबले को जीतने के बाद विजेंदर से उसी के देश में मुकाबला करना चाहते हैं।

amir-vijender-mImage Source :http://images.indianexpress.com/

यह मुकाबला 7 मई को लास वेगास में अल्वारेज के खिलाफ होने वाला है। इस मुकाबले से पहले आमिर खान ने सेन फ्रांसिस्कों से और भारत की मीडिया से अपनी इस इच्छा को जाहिर किया। उन्होंने कहा कि उपयुक्त और सही प्रतिद्वंदी ना मिल पाने के कारण उन्हें वेल्टरवेट से मिडिलवेट में आना पड़ा। वहीं बता दें कि अल्वारेज ने भी अपने करियर के सिर्फ 48 फाइटों में से एक मुकाबले को गंवाया है। जिसमें उनके सामने फ्लायड मेवेदर उतरे थे। वहीं वह बीते साल नवंबर में जीते अपने मीडिलवेट खिताब का फर्स्ट टाइम बचाव करने इस बार रिंग में उतरेंगे।

amir-khan-1446297913-800Image Source :http://static.sportskeeda.com/

बता दें कि हाल ही में ब्रिटेन के इस पेशेवर मुक्केबाज ने भारत और पाक में अपनी मुक्केबाजी अकादमी खोलने का निर्णय लिया है। उन्होंने पेशेवर मुक्केबाज बनने का बाद से अभी तक कोई भी मुकाबला नहीं गंवाया है। वह विजेंदर से मुकाबले को लेकर काफी उत्सुक हैं।

आमिर का कहना है कि, “भारत के विजेंदर सिंह के पास पेशेवर मुक्केबाजी की प्रतिभा है और मैं जल्द ही भारत में उसके साथ मुकाबला करना चाहता हूं।” ओलंपिक रजत पदक विजेता रहे और 2 बार विश्व चैम्पियन बने आमिर ने कहा, “मैं मैरी कॉम और विजेंदर सिंह का काफी बड़ा प्रशंसक हूं। वे आज जो हैं इसलिए हैं क्योंकि उन्हें मौके मिले। हमारे में से अधिकांश के साथ ऐसा ही है और यही कारण है कि मैं इन अकादमियों को शुरू करना चाहता हूं, जिससे कि भारत के हर कोने में सुविधाएं पहुंचे। ऐसे में उम्मीद है कि अगले दो से तीन साल में मैं भारत में विश्व स्तरीय मुक्केबाज और एमएमए फाइटर तैयार कर सकूंगा।”

To Top