_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/02/","Post":"http://wahgazab.com/this-holi-night-perform-these-remedies-to-get-over-all-your-troubles/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/this-holi-night-perform-these-remedies-to-get-over-all-your-troubles/wah-4-pic-1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/38edcdf172ca4efbca56add1f895924c/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

पकड़वा शादियां- लड़को को पकड़ कर जबरन कराई गई 3400 शादियां, पुलिस परेशान

 

 

 

अपने देश में एक राज्य ऐसा भी है जहां पर लड़कों को जबरन पकड़ कर उनकी शादी करा दी जाती है। इस राज्य का नाम है बिहार। यहां पर एक अनोखी परंपरा पूर्व काल से जारी है। इस परंपरा को “पकड़वा” के नाम से जाना जाता है। इस परंपरा में जबरन किसी भी लड़के को पकड़ कर उसका विवाह बिना उसकी मर्जी के किसी भी लड़की से करा दिया जाता है। इस प्रकार से हुई शादियों को “पकड़वा शादियां” कहा जाता है। वर्तमान में ये पकड़वा शादियां पुलिस को बहुत परेशान किये हुए हैं, हालांकि पुलिस ने लोगों से अपील की है कि वह इस प्रकार के कार्य न करें, पर बावजूद इसके अभी भी यह परंपरा जैसी की तैसी चल रही है।

पकड़वा शादियांImage source:

आकड़े चौकाते हैं

पकड़वा परंपरा के तहत लड़के को अगवा कर जबरन उसका विवाह करने वाले इस कार्य के आकड़े यदि आपको बताएं जाएं तो आप हैरान रह जायेंगे। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले वर्ष यानि 2017 में पकड़वा परम्परा के तहत 3405 शादियां कराई गई। इससे पूर्व 2015 में यह आंकड़ा 3000 का था तथा वर्ष 2014 में 2526 युवको को अगवा कर उनका जबरन विवाह कराया गया था। इस प्रकार से यह पता लगता है कि यह परंपरा समय के साथ साथ और ज्यादा प्रबल होती जा रही है।

आकड़ों की मानें तो बिहार में हर दिन करीब 9 शादियां इसी प्रकार से हो रहीं हैं। पुलिस प्रशासन भी इस बात से बहुत परेशान है और पुलिस मुख्यालय से एसपी को अपने इलाकों में शादियों के मौसम के दौरान मुस्तैद रहने का आदेश दिया गया है। नैशनल क्राइम रेकॉर्ड्स ब्यूरो ने अपनी 2015 की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया था कि 18 से 30 वर्ष की उम्र के लोगों को अगवा करने के मामले में बिहार देश में सबसे आगे हैं वहीं दूसरे नंबर पर असम को रखा गया था।

Most Popular

To Top