ये हैं दुनिया के 3 सबसे रहस्यमयी खजाने

0
411

आज हम खतरनाक स्थानों की सीरीज के अंतर्गत आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे “रहस्यमय खजानों” के बारे में जिनको आज तक कोई नहीं ढूंढ़ सका। जिसने भी ऐसी कोशिश की वह कभी जिन्दा वापस नहीं आ पाया। इसीलिए दुनिया के इन खजानों को “खतरनाक खजाने” भी कहा जाता है।

1- काहुएंगा पास ट्रेजर-

काहुएंगा पास ट्रेजर-Image Source: http://i9.dainikbhaskar.com/

बेनिटो जुआरेज जो कि मैक्सिको के राष्ट्रपति थे, उन्होंने 1864 में अपने कुछ सैनिकों को खजाने के साथ सैन फ्रांसिस्को भेजा था, पर रास्ते में ही एक सैनिक की मौत के बाद बचे सैनिकों ने इस खजाने को वहीं दफ़न कर दिया। सैनिकों द्वारा इस कार्य को करते हुए एक व्यक्ति ने देख लिया था जिसका नाम डियागो मोरेना था। इस व्यक्ति ने इस खजाने को निकाल कर दूसरी जगह दफना दिया, पर कुछ दिन बाद उसकी मौत हो गई। इसके बाद डियागो मोरेना के एक दोस्त ने भी इस खजाने को पाना चाहा, पर उसकी भी मौत हो गई। इस खजाने के चक्कर में अब तक 9 लोगों की जान जा चुकी है, लेकिन अभी तक यह खजाना नहीं मिल पाया है।

2- चार्ल्स आइलैंड

चार्ल्स आइलैंडImage Source: http://i9.dainikbhaskar.com/

यह अमेरिका के मिलफोर्ड नामक स्थान पर एक छोटा सा द्वीप है। इस द्वीप को शापित माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि मैक्सिकन सम्राट गुआजमोजिन का खजाना 1721 में चोरी हो गया था, जिसको चोरों ने इस द्वीप पर ही छुपा दिया था। कुछ लोगों ने 1850 में इस द्वीप पर खजाने की खोजबीन शुरू की, पर उन सबकी रहस्यमय मौत हो गई। ऐसा कहा जाता है कि आज तक जो भी यहां इस खजाने को ढूंढने के लिए आया है वह कभी जिंदा वापस नहीं जा पाया।

3- द अंबेर रूम-

द अंबेर रूम-Image Source: http://i9.dainikbhaskar.com/

इस रूम का निर्माण 1707 में हुआ था। इसकी सबसे खास बात यह थी कि यह रूम पूरा का पूरा ही सोने का था। 1941 में दूसरे विश्व युद्ध के दौरान इस रूम पर नाजियों ने अपना कब्ज़ा कर लिया था। इस रूम को सुरक्षित रखने के लिए इसको कई पार्ट्स में बांट दिया गया था। 1943 में इस रूम को प्रदर्शित करने के लिए म्यूजियम में रखा गया, पर अचानक ही यह पूरा का पूरा रूम ही वहां से गायब हो गया और आज तक नहीं मिल पाया। इस रूम की तलाश के लिए जो भी गया वह कभी वापस नहीं लौटा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here