भारत की ये अनोखी परंपराएं हैं उपयोगी

-

भारत अपनी परंपराओं को लेकर देशभर में मशहूर है और इसी खूबी से भारतीय दुनिया में जाने जाते हैं। विदेश में अगर कोई किसी के पैर छूकर आशीर्वाद लेता है तो सब समझ जाते हैं कि ये भारतीय है। आप जानकर हैरान हो जाएंगे कि भारत की कुछ परंपराएं देखने में खास नहीं लगती, लेकिन वो मानसिक और शारीरिक रूप से आप पर प्रभाव डालती हैं। इसलिए हमारे पूर्वजों ने कुछ ऐसे धार्मिक नियम बनाए हैं जो बेहद उपयोगी हैं। जानिए ऐसी कुछ खास परंपराओं के बारे में…

व्रत के पीछे कारण-

आयुर्वेद के अनुसार आपका शरीर एक ऐसी मशीन है जो 24 घंटे सातों दिन चलती है या यूं कहिए कि आपकी मृत्यु तक लगातार चलती है। लगातार भोजन और इसे पचाने से पाचन संस्थान पर दवाब पड़ता है जिसके चलते हमारे शरीर में टॉक्सिन्स पैदा होते हैं। ऐसे में हफ्ते में एक दिन व्रत करने से हमारे शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं, जिससे आपका शरीर स्वस्थ हो जाता है। वैज्ञानिकों की मानें तो व्रत करने से कैंसर, डायबिटीज, पाचन से जुड़ी बीमारियों का खतरा टल जाता है।

ganesh1Image Source : http://s3.firstpost.in/

सूर्य को जल चढ़ाना-

सूर्य नमस्कार करने के कुछ नियम होते हैं और इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण बताए गए हैं। सुबह का समय ब्रह्ममुहूर्त माना गया है इससे दिमाग तेज होता है। इसके साथ ही इस दौरान किया गया काम अधिक एकाग्रता से होता है। सुबह के समय सूर्य को जल चढ़ाने ले उसकी किरणें आपकी आंखों पर पड़ती हैं जो कि रोशनी बढ़ाती हैं। सूर्य नमस्कार करने से भी शरीर में तंदुरुस्ती आती है और आप कई बीमारियों से कोसों दूर रहते हैं। इसके साथ ही आपको दिन भर के काम के लिए ऊर्जा मिलती है।

calmwaterspa_fitnessImage Source :https://lh3.googleusercontent.com/

हम पैर क्यों छूते हैं?

भारत में बड़ों के पैर छूकर आशीर्वाद लेना एक महत्वपूर्ण परंपरा है, जिसके बाद हमसे बड़े हमारे सिर पर हाथ रखकर आशीर्वाद देते हैं। इसका पहला कारण ये है कि पैर छूकर हम बड़ों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हैं। इसके अलावा जब हम झुककर पैर छूते हैं और हमसे बड़े हमारे सिर पर हाथ रखते हैं। इससे उनकी ऊर्जा हमारे अंदर आती है। यही कारण है कि लोग अपने से बड़ों और साधु संतों के चरण छूते हैं।

1619944111Image Source :http://static.gulfnews.com/

नाक-कान छिदने का कारण-

भारतीय महिलाओं में प्रचलित ये परंपरा आपके शारीरिक स्वास्थ्य से जुड़ी हुई है। भारतीय चिकित्साशास्त्रियों की मानें तो कान और नाक की कुछ नसें सीधे दिमाग की नसों से जुड़ी होती हैं। जिससे दिमाग की अतिसक्रियता खत्म होकर नियंत्रण में आती हैं।

559da6f91d056b2485b0cdf40d40295aImage Source :https://s-media-cache-ak0.pinimg.com/

महिलाएं हाथों में चूड़ियां क्यों पहनती हैं?

हाथों की कलाई में नसों का जाल होता है जहां लोगों की धड़कनें देखी जाती हैं। यहां पर सही दवाब देकर शरीर के रक्तचाप को नियमित किया जाता है। इसी के चलते महिलाओं के लिए चूड़ियों का पहनना जरूरी होता है। इसका नसों पर घर्षण होने से नसों पर दवाब पड़ता है।

New-2014-Fashion-Indian-Big-Size-Bangles-Bohemia-Blue-Color-Snake-Shape-Alloy-Charm-Bracelets-BanglesImage Source :http://3.bp.blogspot.com/

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments