पाकिस्तान के तीन बच्चों को है सूर्य से जुड़ी रहस्यमयी बीमारी

-

हमने अपने बुजुर्गों से सुना है कि जिंदगी का सीधा ताल्लुक सूर्य से होता है। सूर्य के आने से ही सारा काम शुरू होता है और सूर्य के जाते ही सब लोग अपने घरों में चले जाते हैं, लेकिन कुछ ऐसा ही मामला पाकिस्तान के तीन बच्चों के साथ हो रहा है। पाकिस्तान के इन तीनों बच्चों को एक रहस्यमयी बीमारी से जूझना पड़ रहा है। इस बीमारी से ग्रसित ये तीनों बच्चे जब तक सूरज रहता है ठीक रहते हैं, लेकिन जैसे ही सूरज ढलता है यह तीनों ही लाचार हो जाते हैं।

पाकिस्तान के क्वेटा से थोड़ी दूरी पर स्थित गांव मिया कुंडी में रहने वाले तीन बच्चों को बेहद ही अजीबो गरीब बीमारी का शिकार होना पड़ा है। एक वर्षीय शोएब, नौ साल के राशिद और तेरह साल के इलयास हाशिम नाम के तीनों बच्चों की जिदंगी का हर काम सूर्य से ही जुड़ा है। यह बच्चे दिखने में तो आम बच्चों की तरह ही रहते हैं, लेकिन इन्हें कुछ अलग तरह की बीमारी है। सुबह सूर्य के आने के बाद से ही इन तीनों की जिंदगी शुरू होती है, वहीं सूर्य के ढलते ही यह तीनों चलने फिरने के भी काबिल नहीं रहते है। इस कारण ही इन्हें पूरा गांव सौर बच्चों के नाम से पुकारने लगा है।

downloadImage Source :http://static1.squarespace.com/

डॉक्टर के लिए इनकी बीमारी बनी रहस्य-

तीनों बच्चों को इलाज के लिए इस्लामाबाद स्थित पाकिस्तान इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में कुछ दिनों के लिए भर्ती करवाया गया था। संस्थान के कुलाधिपति डॉ. जावेद अकरम भी इस बीमारी को बेहद ही अलग केस मानते हैं। उन्होंने भी ऐसे केस का पहले कभी सामना नहीं किया है, लेकिन इन बच्चों के लिए नौ लोगों की एक टीम का गठन किया गया है। फिलहाल शुरूआती दौर की जांच में इन तीनों बच्चों को मास्थेनिया सिंड्रोम से ग्रस्त पाया गया है। इस सिंड्रोम से ग्रसित दुनिया में मात्र 600 मामले ही सामने आए हैं।

vikas Aryahttp://wahgazab.com
समाचार पत्र पंजाब केसरी में पत्रकार के रूप में अपना कैरियर शुरू किया। कई वर्षो से पत्रकारिता जगत में सामाजिक कुरीतियों और देश दुनिया के मुख्य विषयों पर लेखों के द्वारा लोगों को जागरूक करने का प्रयास कर रहा हूं। अब मेरा प्रयास है कि मैं ऑनलाइन मीडिया पर भी अपने लेखों से लोगों में नई सोच और नई चेतना का संचार कर सकूं।

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments