जाने सबसे पुराणिक दुर्लभ और बेशकीमती घड़ी की कहानी

-

आगरा कॉलेज के प्राचार्य के अनुसार उनके कॉलेज के नीव गंगाधर शास्त्री ने 1823 में रखी थी। शास्त्री ज्योतियषाचार्य और संस्कृत के विद्वान थे, वह मराठा राजघराने के राज पुरोहित भी थे। शुरुआती दौर में यहां केवल ज्योतिष और संस्कृत की क्लासिस ही चलती थी, लेकिन इसके बाद उन्होंने शिक्षण संस्था की जागीर ईस्ट इंडिया कंपनी को सौंप दी।

इसके बाद तत्कालीनप प्रधानचार्य ई लोच के सामने कंपनी ने एक पत्थर घड़ी का निर्माण 1842 में करवाया था। इस धूप घड़ी में हिंदी और रोमन के अंक अंकित हैं। सूर्य के प्रकाश की मदद से यह घड़ी चलती है। इस घड़ी का नाम धूप घड़ी रख दिया गया।

हां पर कक्षा शुरू होने से लेकर छुट्टी तक इस घड़ी को देखकर किया जाता था। धूप की घड़ी की खासियत यह है कि इसमें समय कोई भी देख सकता है। धूप की परछाई के हिसाब से सही समय का अनुमान लगाया जा सकता है। घड़ी के बीच में लोहे की तिरछी प्लेट लगी हुई है। जिसमें कोण के माध्यम से नंबर अंकित किए गए हैं। सूर्य के उगले के साथ ही लोहे की प्लेट पर धूप की परछाई से सही समय को जाना जा सकता है।

Deepahttp://wahgazab.com/
Born to 'READ' and 'WRITE' A journalism graduate from International Polytechnic for women. A young writer with the fond of writing over entertainment and socio-political issues in various verses.

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments