राज ठाकरे ने कुर्सी के लिए दी सोनाली बेंद्रे के प्यार की कुर्बानी

बॉलीवुड एक्ट्रेस जितनी ज्यादा सुंदर होती हैं उतने ही ज्यादा उनके प्यार के चर्चे सुनने में आते हैं। 90 के दशक की बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे की खूबसूरती को कौन नहीं जानता। अचानक ही फिल्मों में आकर धूम मचाने वाली इस एक्ट्रेस ने हर किसी के दिल को कायल किया था। उनकी ख़ूबसूरती के लोग दिवाने थे। वैसे तो सोनाली जितनी सुंदर पहले थीं, आज भी वो उतनी ही हसीन दिखती हैं। 90 के दशक में सोनाली की अदा पर कई दिल फ़िदा हुए थे, जिनमें से एक नाम MNS चीफ राज ठाकरे का भी है। जी हां, बिल्कुल सही पढ़ा आपने। राज ठाकरे और सोनाली बेंद्रे एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे, लेकिन लैला मजनू के प्यार की तरह इनकी प्रेम कहानी भी अधूरी रह गयी।

सोनाली बेंद्रे और राज ठाकरे के रिश्ते के बारे में शायद ही कोई जानता है, पर इनके बारे में लोग अलग-अलग कहानी बताते हैं। बताया जाता है कि सोनाली की फिल्म में एंन्ट्री राज ठाकरे की मदद से हुई थी। वहीं, कोई कहता है कि फिल्मों में सोनाली बेंद्रे को देखने के बाद राज का दिल उन पर आ गया था। खैर किस्से कहानी कुछ भी कहते हों, पर दिल तो दिल ही है किसी पर भी आ सकता है।

Sonali BendreImage Source: http://www.hotstarz.info/

राज ठाकरे जब सोनाली बेंद्रे के प्यार में गिरफ्त हुए उस वक़्त वो शादी शुदा थे। वो हर हाल में सोनाली को पाना चाहते थे, पर बाल ठाकरे इनके प्यार के बीच रोड़ा बन खड़े हो गए। जिससे इनके प्यार की कहानी अधूरी बनकर ही रह गई। बताया जाता है कि उनके ताऊ बाल ठाकरे ने राज को सोनाली से शादी ना करने के लिए दबाव डाला था क्योंकि बाल ठाकरे को अपनी पार्टी शिवसेना की इमेज के खराब होने का डर था, जो उनके भविष्य के लिए अच्छा नहीं था।

raj-thackerayImage Source: http://data1.ibtimes.co.in/

राज ठाकरे स्वयं उस वक़्त शिवसेना पार्टी में थे। उन्हें लगा था कि बाल ठाकरे अपनी कुर्सी की कमान उनके ही हाथ में देंगे और इसी कुर्सी की चाहत में राज ठाकरे ने बाल ठाकरे की बात मान अपने प्यार की कुर्बानी दे दी। राज ठाकरे ने प्यार के बदले सत्ता को चुना। दोनों ने शादी ना करने का फैसला किया, लेकिन बताया जाता है कि दोनों फिर भी लंबे समय तक रिलेशनशिप में रहे। राज ठाकरे ने जिस कुर्सी के लिए अपने प्यार की कुर्बानी दी वो कुर्सी भी उनके हाथ से निकल गयी। बाल ठाकरे ने अपने बेटे उद्धव ठाकरे के हाथ में शिवसेना की जिम्मेदारी दी और राज ठाकरे ने अपनी अलग पार्टी बनाई। बताया जाता है कि आज भी राज ठाकरे और सोनाली बेंद्रे एक अच्छे दोस्त हैं।

To Top