“गोल्डन टेम्पल” को जानते होंगे लेकिन क्या देश की गोल्डन रेल को जानते हैं  

-

अब तक आप अमृतसर वाले गोल्डन टेम्पल के बारे में ही जानते होंगे। असल में वही सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है परंतु वास्तव में हमारे देश में गोल्डन रेल भी चलती है। इस बात की जानकारी बहुत कम लोगों को है। आइये आज हम आपको इस रेल की विस्तृत जानकारी यहां दे रहें हैं। इस रेल का असल नाम “गोल्डन टेंपल मेल” है। रेलवे में इस ट्रेन को “फ्रंटियर मेल” के नाम से भी जाना जाता है। आपको बता दें की दिल्ली से टपरी मार्ग पर चलने वाली यह सबसे पुरानी रेल है। इस मार्ग पर चलते हुए 1 सितंबर 2018 को यह ट्रेन अपने 90 वर्ष पुरे कर लेगी।

अंग्रेजों की पसंद थी यह ट्रेन –

अंग्रेजों की पसंद थी यह ट्रेनImage source:

यह गोल्डन टेंपल मेल ट्रेन काफी पुरानी तो है ही लेकिन इसकी यह ख़ास बात है की पुरानी होने के कारण ही यह देश की आजादी की मूक गवाह भी है। ब्रिटिश हुकूमत में इस ट्रेन को अंग्रेज काफी पसंद करते थे। आज के कई दिग्गज अभिनेताओं ने भी अपने कैरियर की शुरुआत में सफर किया है। 1 सितंबर 1928 को यह ट्रेन प्रारंभ हुई थी और तब से यह लगातार इस मार्ग पर अनवरत चल रही है।

इतिहास में सिर्फ एक बार रुकी है यह ट्रेन –

इतिहास में सिर्फ एक बार रुकी है यह ट्रेनImage source:

इस गोल्डन टेंपल मेल ट्रेन की एक ख़ास बात यह भी है की मौसम का मिजाज चाहे जैसा भी रहा ही। यह ट्रेन कभी अपने गंतव्य पर जाने से नहीं रुकी। हां उत्कल ट्रेन हादसे के समय इसका रूट डायवर्ट कर दिया गया था। उस समय इसको शामली से होकर निकाला गया था। आपको बता दें की यह ट्रैन इतिहास में सिर्फ एक बार उस समय रुकी थी। जब 21 अगस्त 2017 को डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत राम रहीम को कोर्ट द्वारा दोषी करार दे दिया गया था। उस समय पर इस ट्रेन को 3 दिन के लिए रोका गया था।

यह है इसका पुराना इतिहास –

यह है इसका पुराना इतिहासImage source:

स्टेशन अधीक्षक इस गोल्डन टेंपल मेल ट्रेन के बारे में बताते हुए कहते हैं की “पाकिस्तान में जन्में पृथ्वी राज कपूर तथा अंग्रेजों के बोलार्ड पियर मोल को यदि भारत आना होता था तो यही ट्रेन उनकी पहली पसंद थी। जिस समय देश का बटवारा नहीं हुआ था उस समय यह ट्रेन पाकिस्तान के लाहौर और अफगानिस्तान से होते हुए मुंबई सेंट्रल तक का सफर पूरा करती थी। इस गोल्डन टेंपल मेल ट्रेन को “फ्रंटियर मेल” नाम 1934 में मिला था। इस ट्रेन में 24 कोच हैं और यह आप में 34 टाटा डाउन में 35 स्टाप पर रूकती है। ख़ास बात यह है की इस ट्रेन को 84 वर्ष पहले ही एसी कोच मिल गया था। उस समय यह ट्रेन देश की पहली एसी कोच वाली ट्रेन थी। इसके अलावा यह ऐसी पहली ट्रेन थी जिसमें रेडियो सुनने की भी सुविधा दी गई थी।

shrikant vishnoihttp://wahgazab.com
किसी भी लेखक का संसार उसके विचार होते है, जिन्हे वो कागज़ पर कलम के माध्यम से प्रगट करता है। मुझे पढ़ना ही मुझे जानना है। श्री= [प्रेम,शांति, ऐश्वर्यता]

Share this article

Recent posts

देखो भाई अजब तमाशा, जापान ने बनाया ऐसा टॉयलेट जो बोले खुलेपन की भाषा

वैसे तो पारदर्शिता या जिसे आप ट्रांसपेरेंसी कहते हैं वो चाहिए तो संबंधों में थी उससे मन साफ रहता पर चलिए यहाँ शौचालय पारदर्शी...

आजादी की आखिरी रात यानी १५ अगस्त, १९४७ को घटनाक्रम ने क्या-क्या मोड़ लिए थे, आईये जानते हैं

इस वर्ष यानि 2020 का स्वतंत्रता दिवस गत वर्षों से भिन्न होगा | दुर्भाग्यवश कोरोना महामारी से हमारा देश और पूरा विश्व प्रभावित है...

मशहूर शायर राहत इंदौरी का दिल का दौरा पड़ने से हुआ निधन

कल शाम दिल का दौरा पड़ने से मशहूर शायर राहत इंदौरी का निधन हो गया | ज़िन्दगी के ७० बरस गुज़ार चुकने के बाद...

बाबा ज्योति गिरि महाराज की काली करतूत वीडियो में हुई दर्ज

बाबा राम रहीम और आसाराम बापू के बाद हरियाणा के मार्केट में एक और बाबा का नाम नाबालिगों के साथ कथित तौर पर बलात्कार...

डब्बू अंकल को टक्कर देने आ गए डॉक्टर अंकल, कमरिया ऐसी लचकाई कि लोग हो गए दीवाने

बहुत वक़्त नहीं हुआ जब आपने एक शादी समारोह में भोपाल के संजीव श्रीवास्तव (डब्बू अंकल) नाम के व्यक्ति को गोविंदा के गाने पर...

Popular categories

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent comments