खून वाला पेड़ बना लोगों की श्रद्धा का केंद्र

0
487

कई बार इस प्रकार की घटनाएं देखने को मिलती हैं जिन्हें देखकर आप यह सोचने पर मज़बूर हो जाते हैं कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता है। इसी प्रकार की एक घटना के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं जिसको जानकार आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे। यह मामला यूपी के लखीमपुर खीरी जिले के धौरहरा क्षेत्र के रेहुवा गांव का है। यहां पर पेड़ से खून निकलने का एक आश्चर्यचकित मामला सामने आया है।

Bloodwood tree5Image Source: http://ecx.images-amazon.com/

क्या है मामला-
धौरहरा क्षेत्र के रेहुवा गांव में किसान सतीश वर्मा रहते हैं। एक दिन वह अपने खेत में सेमल का पेड़ काटने के लिए पहुंचे। पेड़ पर कुल्हाड़ी से वार करने के बाद सतीश वर्मा ने देखा कि पेड़ से लाल रंग का द्रव्य बह निकला है जो हू-ब-हू खून से मिलता है। इसको देख कर सतीश को घबराहट होने लगी और वह बेहोश हो गए। होश में आने के बाद सतीश गांव पहुंचे और लोगों को पूरा वाकया बताया। जंगल की आग की तरह ये खबर आस-पास के गांवों के सैकड़ों लोगों तक पहुंच गई।

Bloodwood tree2Image Source: http://4.bp.blogspot.com/

लोग चमत्कार मान कर मौके पर पहुंच गए और वहां पूजा पाठ शुरू कर दिया। इसी बीच मौके पर एक शास्‍त्री और एक मौलाना भी पहुंच गए। कोई यहां मन्दिर बनाने की बात करने लगा तो कोई मजार। देखते ही देखते हजारों रुपए भी पेड़ की जड़ में चढ़ा दिए गए।

Bloodwood treeImage Source: http://static.hindi.news18.com/

क्‍या कहना है विशेषज्ञ का-
अब पेड़ से खून निकल रहा है या कोई अन्य पदार्थ इसको लेकर बहस शुरू हो गई। जन्तु और वनस्पति विशेषज्ञ डॉ. वीपी सिंह कहते हैं कि पेड़ों में ‘रेजिन’ नाम से एक पदार्थ निकलता है। यह रासायनिक अभिक्रिया से लाल रंग का हो गया होगा। हंसते हुए डॉ. सिंह यह भी कहते हैं कि प्रकृति खुद मनुष्य को पेड़ काटने से रोकने को कह रही है। अब लोगों को इसी बहाने ही सही समझ जाना चाहिए।

Video Source: https://www.youtube.com

रेहुआ गांव में सतीश का खेत बना चर्चा का विषय-
धौरहरा के वन क्षेत्राधिकारी यूपी सिंह कहते हैं हिन्दुस्तान में आस्था के नाम पर अंधविश्‍वास फैलाने वालों की कमी नहीं है। बिना किसी वैज्ञानिक कारण जाने लोग लोग पूजा पाठ करने लगे होंगे पर प्रकृति में ये घटना कोई अनोखी नहीँ। पेड़ों में गोंद या तरल पदार्थ निकलते लोगों ने देखा होगा। हो सकता है पेड़ के बीमारी वाली जगह पर कुल्हाड़ी पड़ गई हो और लाल रंग का ये पदार्थ निकला हो। वह कहते हैं कि लोगों में आस्था से ही सही, अगर कुछ कटान रुके तो इसमें हर्ज क्या है।

Bloodwood tree1Image Source: http://www.medicinehunter.com/

फिलहाल इस खबर से यह साबित होता है कि यह घटना वनस्पति विज्ञान से भी जुड़ी हो सकती है। वैसे भी किसी भी व्यक्ति को अपनी श्रद्धा के आधार पर ही नहीं बल्कि विज्ञान के आधार पर किसी भी घटना का सही आंकलन करना चाहिए। इसके अलावा यह भी सोचना चाहिए कि पेड़ों में भी हम लोगों की तरह जीवन होता है। इसलिए हम लोगों को उन पर ज्यादती नहीं करनी चाहिए।

Bloodwood tree4Image Source: http://i.imgur.com/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here