आज का इतिहास- पेशवा बालाजी विश्वनाथ का हुआ निधन

0
1048

2 अप्रैल का दिन भारतीय इतिहास के लिए बहुत ही दुखद रहा है क्योंकि इसी दिन सन् 1720 में पेशवा बालाजी विश्वनाथ ने इस दुनिया को अलविदा कहा था। इनका जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था तथा उस समय ये किसी ने भी नहीं सोचा था कि एक दिन वो मराठा साम्राज्य को गौरवांवित करेंगे। बालाजी विश्वनाथ को सन् 1713 में पेशवा की उपाधि दी गई थी।

Balaji_VishwanathImage Source :https://upload.wikimedia.org/

पेशवा बालाजी विश्वनाथ ने सन् 1719 में सैय्यद बंधुओं के कहने पर मुगल सम्राट से संधि की। जिसे सर रिचर्ड टेम्पल ने मराठा साम्राज्य का मैग्राकाटी कहा। इस संधि से मराठों को मुगल राजनीति में हिस्सा लेने का मौका मिला। जब बालाजी विश्वनाथ की मृत्यु हुई तो उन्होंने उससे पहले ही महाराष्ट्र में शाहू की स्थिति काफी दृढ़ कर दी थी। बालाजी विश्वनाथ का मराठा साम्राज्य के लिए इतना कुछ करने के ही कारण उन्हें शाहू ने पेशवा के पद को बालाजी विश्वनाथ के ही परिवार को दे दिया था। जिसके बाद जब बालाजी विश्वनाथ की मृत्यु हुई तो पेशवा के पद को उनके पुत्र बाजीराव प्रथम को दे दिया गया।

2 अप्रैल को विश्व के इतिहास में घटी कुछ अन्य महत्वपूर्ण घटनाएं-

1559- इटली के जेनोआ क्षेत्र से यहूदियों को निकाला गया।

1679- मुगल शासक अकबर ने जजिया कर समाप्त किया।

1720- पेशवा बालाजी विश्वनाथ का निधन।

1905- मिस्र की राजधानी काहिरा और दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन शहर के बीच रेल यातायात शुरू।

1921- प्रसिद्ध वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने अपने नये सापेक्षता के सिद्धांत विषय पर न्यूयॉर्क में व्याख्यान दिया।

7-Practical-Life-Lessons-From-Albert-EinsteinImage Source :http://cdn-media-1.lifehack.org/

1933- क्रिकेटर प्रिंस रणजीत सिंहजी का गुजरात के जामनगर में निधन।

1942- कांग्रेस ने क्रिप्स मिशन के प्रस्ताव को खारिज किया।

1945- सोवियत संघ और ब्राजील के बीच राजनयिक संबंध बहाल हुये।

1997- सुमिता सिन्हा ने अपने ऊपर से 3200 किलोग्राम भार के ट्रक को पार करने की अनुमति देकर रिकॉर्ड स्थापित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here