बेटा पैदा करने की चाह में 83 वर्षीय बूढ़े ने की लड़की से शादी

विवाह

बेटे की चाह कुछ लोगों के जहन से बूढ़ा होने तक भी निकलती नहीं है। हालही में इसी चाह में एक 83 वर्ष के व्यक्ति ने 30 वर्ष की युवती से विवाह किया है। आपको बता दें की यह चौकाने वाली खबर राजस्थान से सामने आई है। यहां के लोगों के जहन से आज के विकास युग में भी बेटे की चाह निकल नहीं पा रही है। इसी के चलते राजस्थान के जयपुर के करौली क्षेत्र के सैमरदा गांव के एक व्यक्ति ने 30 वर्ष की एक लड़की से शादी की है। आपको जानकर हैरानी होगी की दूल्हा बना यह व्यक्ति 83 वर्ष का है और इसका नाम “सुखराम बैरवा” है। इस व्यक्ति द्वार किया गया यह विवाह लोगों में चर्चा का केंद्र बना हुआ है। सुखराम बैरवा की यह दूसरी शादी है। उनकी पहली पत्नी का नाम बत्तो है जो अभी जीवित हैं। सुखराम ने पहली पत्नी बत्तो की रजामंदी से ही यह दुसरा विवाह किया गया है। इस विवाह को सारे रस्मों रिवाज तथा ढोल नगाड़ों के साथ किया गया।

विवाह Image source:

बेटे की हो गई थी मौत –

आपको बता दें की सुखराम बैरवा के पहली पत्नी से तीन संताने थी। जिनमें दो लड़कियां तथा एक लड़का था। दोनों लड़कियों का विवाह समय से सुखराम बैरवा ने कर दिया था पर 30 वर्ष की आयु में उसके एकलौते बेटे की असमय मौत हो गई थी। इस कारण से सुखराम बैरवा के परिवार में वंशबृद्धि का संकट आ गया था। इसी कारण से पास के गांव राहिर की निवासी 30 वर्षीय रमेशी के साथ सुखराम में विवाह किया है। संपत्ति एक नाम पर सुखराम के पास में गांव में ही 7 बीघा जमीन तथा दिल्ली में एक प्लॉट है। इस दूसरे विवाह से सुखराम को कोई संतान होती है अथवा नहीं यह आने वाला समय ही बताएगा।

To Top