_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/one-of-the-top-5-south-indian-movie-that-earns-a-lot-of-fortune/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=43757","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

अद्भुत – यह है विश्व का सबसे ऊंचा शिव मंदिर, जानें इसके बारे में

दुनिया में बहुत बड़ी संख्या में शिवालय मौजूद हैं और बहुत से शिव मंदिरों में आप गए भी होंगे, पर क्या आप दुनिया के सबसे ऊंचे शिवालय के बारे में जानते हैं? यदि नहीं, तो आज हम आपको रूबरू करा रहें हैं दुनिया के सबसे ऊंचे शिव मंदिर से। सबसे पहले हम आपको यह बता दें कि यह शिवालय किसी अन्य देश में नहीं, बल्कि अपने ही देश में स्थित है और आप इस तक आसानी से पहुंच भी सकते हैं, तो आइये आपको अब विस्तृत में देते हैं इस शिवालय की जानकारी।
विश्व का सबसे ऊंचा यह शिव मंदिर उत्तराखंड में स्थित है, इस मंदिर को लेकर ऐसी मान्यता है कि इसका निर्माण पांडवों ने ही किया था। इस मंदिर का नाम “तुंगनाथ मंदिर” है और यह उत्तराखंड के रूद्र प्रयाग जिले में तुंगनाथ नामक एक पहाड़ पर ही बना हुआ है।

image source:

इस मंदिर को बहुत प्राचीन माना जाता है और इसके विषय में कई मान्यताएं भी आम लोगों में हैं। 3,680 मीटर की ऊंचाई पर स्थित यह शिवालय विश्व का सबसे ऊंचा शिवालय माना जाता है। साथ ही यह उत्तराखंड के पंच केदारों में भी गिना जाता है। इस मंदिर के निर्माण के बारे में ऐसा कहा जाता है कि महाभारत के युद्ध में हुए विशाल नरसंहार के बाद में भगवान शिव पांडवो से रूष्ट हो गए थे और उनको प्रसन्न करने के लिए पांडवो ने इस मंदिर का निर्माण कर उनकी उपासना की थी। नवंबर और मार्च के बीच के समय में यह मंदिर बर्फबारी के कारण बंद रहता है। इस मंदिर को लेकर एक मान्यता यह भी है कि रावण को मारने के बाद में भगवान श्री राम यहां आये थे और उन्होंने इस स्थान पर आकर भगवान शिव की तपस्या की थी। खैर, जो भी है आज के समय में यह मंदिर विश्व का सबसे ऊंचा शिवालय है और लोगों को इस स्थान के प्रति श्रध्दा प्राचीन काल से ही रही है, बहुत लोग आज भी यहां दर्शन करने के लिए आते हैं।

Most Popular

To Top