_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/02/","Post":"http://wahgazab.com/here-is-how-a-mirror-makes-you-a-billionaire/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/here-is-how-a-mirror-makes-you-a-billionaire/mirror-mirror-on-the-wall-7/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

एक ही पत्थर से बना है यह विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग

आपने शिवालय तो बहुत से देखें ही होंगे और बहुत से मंदिरों में भी आप गए ही होंगे, पर क्या कभी आपने ऐसा कोई शिवलिंग उन मंदिरो में देखा हैं जो की विश्व का सबसे बड़ा शिवलिंग हो और एक ही पत्थर से बना हो, यदि नहीं तो आज हम आपको ऐसे ही शिवलिंग के बारे में ही बता रहें हैं। जानकारी के लिए हम आपको यह बता दें कि यह शिवलिंग “भोजेश्वर मंदिर” नामक शिवालय में स्थापित है। भोजेश्वर मंदिर, मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित है, जो की भोपाल से महज 32 किमी की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर को परमार वंश के प्रसिद्ध राजा भोज (1010 ई–1055 ई) ने बनवाया था तथा इन्होंने ही भोजपुर की स्थापना की थी। आइये जानते हैं इस मंदिर की विशेषताएं।

bhojeshwar-templebhojpurmadhya-pradesh1Image Source:

सबसे पहली बात इस मंदिर के शिवलिंग की है और वह यह है कि इस मंदिर का शिवलिंग विश्व का सबसे बड़ा और एक ही पत्थर से बना शिवलिंग है। इस शिवलिंग लम्बाई 5.5 मीटर (18 फीट), व्यास 2.3 मीटर (7.5 फीट ) है।

bhojeshwar-templebhojpurmadhya-pradesh2Image Source:

इस मंदिर की एक विशेषता यह भी है कि यह अपने में एक अधूरा मंदिर है पर ऐसा क्यों है इस बारे में कोई नहीं जानता, कुछ लोगों का कहना है कि इस मंदिर का निर्माण एक ही रात में होना था पर समय न होने के कारण यह अधूरा रह गया। इस मंदिर की एक खासियत यह है कि इसकी छत गुम्बदीय है जबकि उस समय इस्लाम भारत में नहीं आ पाया था, बहुत से लोग ऐसा मानते हैं कि यह ईमारत भारत की पहली गुम्बदीय छत वाली ईमारत है।

Most Popular

To Top