_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/04/","Post":"http://wahgazab.com/men-live-behind-the-veils-instead-of-women-here-at-this-place/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=37066","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

1500 सालों से हवा में झूल रहा है यह बौद्ध मठ

चीन के मुख्य पर्यटन स्थलों में शामिल माउंट हेंगशान पर स्थित यह बौद्ध मठ पांच पवित्र पर्वतों में से एक माना गया है इस मठ का निर्णाण आज से 1500 साल पहले वेई साम्राज्य के समय में किया गया था। इस मठ की सबसे खास बात है कि इसका निर्माण कार्य केवल एक ही व्यक्ति के द्वारा किया गया था।लेकिन तब से लेकर अब तक समय-समय पर इसकी मरम्मत कई बार की जा चुकी है। यह बौद्ध और दूसरे धर्मों की मिश्रित शैली से बना एकमात्र संरक्षित मंदिर है।

काफी खतरनाक रास्ते में बने इस बौद्ध मठ की सुदरतां को देखकर इसे वर्ष 2010 में विश्व की 10 सबसे अजीबोगरीब खतरनाक इमारतों में सम्मलित किया गया था। इस बौद्ध मठ की ऊंचाई का आंकलन करें तो यह यहां की सबसे ऊंची चोटी 6617 फीट ऊंचाई पर स्थित है।

हवा में अटका हुआ है यह मंदिर
मंदिर की संरचना इस प्रकार से तैयार की गई है जिसे देखकर लगता है कि मानों यह मंदिर हवा में झूल रहा है। क्योंकि इसका निर्माण इस तरह से किया गया है कि सीधी खड़ी चट्टानों पर बनाया गया है जो हवां में झूलता हुआ प्रतीत होता है। बिना किसी सहारे के बना यह मंदिर अपनी सुंदरता के कारण लोगों के आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है जिसे देखने के लिए चीन के लोग ही नहीं बल्कि दूर देशों के लोग भी खींचे चले आते है।

Most Popular

To Top