_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/why-does-india-media-want-to-spread-communalism-in-society/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=47080","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/769db88c626971aefb4da31a62a82b34/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

राजस्थान – वाहन चोरी करने के लिए प्रतियोगिता करता है यह गैंग, पुलिस भी जानकर है दंग

राजस्थान

 

अपने देश में बहुत से ऐसे स्थान हैं जो अपने आप में अजीबोगरीब हैं। आज हम आपको राजस्थान के एक ऐसे ही स्थान के बारे में बता रहें हैं जहां लोगों के वाहनो को चोरी करने के लिए चोर प्रतियोगिता करते हैं। इस स्थान का नाम “उदयपुर” है जो कि राजस्थान का ही एक जानामाना शहर है। यहीं से पुलिस ने कुछ वाहन चोरी करने वाले लोगों को पकड़ा है। इन लोगों ने पूछताछ में जो बातें पुलिस को बताई हैं उसको सुनकर पुलिस अफसर भी हैरान रह गए हैं। पुलिस से इन चोरों ने बताया है कि ये लोग बाकायदा वाहन चोरी की प्रतियोगिता करते थे और जो सबसे ज्यादा वाहन चुराता था वही गैंग का लीडर माना जाता था।

राजस्थानImage Source:

उदयपुर के हिरणमगरी थाना पुलिस ने एक वाहन चोरी करने वाली गैंग के 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। इन दोनों ने इस बात को बताया कि उनके यहां गैंग के लीडर के इशारे पर ही वाहनो को चुराया जाता है। जो सबसे ज्यादा वाहनों को चुरा पाता है उसको ही गैंग का लीडर माना जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि पुलिस ने इनके पास में से 80 चोरी की गई गाड़ियां बरामद की हैं। इन दोनों चोरों को पुलिस ने कोर्ट में पेश कर दिया है। पुलिस ने बताया कि इन दोनों के नाम दिनेश उर्फ देवा मीणा तथा अनिल मीणा हैं ये लोग गांव पारसोला, जिला प्रतापगढ़ के रहने वाले हैं। पुलिस से जिन 80 वाहनों को इन लोगों से पकड़ा है उनमें से 26 दुपहिया वाहन है। पुलिस को अपनी तफ्तीश में पता लगा कि यह गैंग कम दामों पर गाड़ियों को बेच देता था तथा मौज मस्ती में पैसा खर्च कर देता था।

To Top