ट्वीट के बाद प्रभु ने मिलवाया माता-पिता को बेटी से

पिछले कुछ वक्त से सोशल नेटवर्किंग साइट ‘ट्विटर’ रेल यात्रा करने वाले भारतीयों के लिए सफर की एक अहम जरूरत बनकर उभरा है। ख़ास बात ये है कि अब ट्विटर रेल यात्रियों और भारतीय रेलवे के मुख्यमंत्री सुरेश प्रभुके बीच संपर्क का एक अनोखा माध्यम बन गया है।

पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं जिनमें किसी यात्री ने रेल मंत्री को ट्वीट करके अपनी परेशानी के बारे में बताया हो और उन्होंने तुरंत इस पर कोई उचित कार्रवाई की हो। इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए रेल मंत्री ने महाराष्ट्र के एक दंपती की विनती को गंभीरता से लेते हुए उनकी परेशानी को हल किया है।

पिछले-कुछ-वक्त-से-सोशल-नेटवर्किंग-साइट-‘ट्विटर’-रेल-यात्राImage Source :http://www.localsurgemedia.com/

दरअसल इस दंपती ने रेल मंत्री को ट्वीट करके अपनी 15 वर्षीय बेटी के बारे में खबर दी थी कि वह अपने साथ पढ़ने वाले एक 10वीं के छात्र के साथ भाग गई है। इस पूरी घटना के बाद देर रात को इस लड़की की मां ने ट्वीट करके यह खबर रेल मंत्री को दी।

अपनी बेटी के बारे में बताते हुए महिला ने इसमें लिखा था कि एक लड़की अपने 10वीं कक्षा में पढ़ने वाले मित्र के साथ गीतांजलि एक्सप्रेस से घर से भाग गई है। यह ट्रेन अभी कुछ समय पहले भुसावल स्टेशन से होकर गुज़री है। इतना ही नहीं इस ट्वीट के साथ अपनी बेटी का फोटो देने के अलावा महिला ने दोनों के बारे में कुछ और बातें भी शेयर की। इस ट्वीट का जवाब रेल मंत्री ने फ़ौरन दिया और उचित कार्रवाई में लग गए। इस पूरे मामले के अलगे ही दिन मां-बाप को उनकी बेटी मिल गई।

अपनी-बेटी-के-बारे-में-बताते-हुए-महिला-ने-इसमेंImage Source :https://i.ytimg.com/vi/

पहले भी कर चुके हैं ऐसे मामलों में सुनवाई

इससे पहले भी कई लोग ट्विटर के जरिए रेल मंत्री को ट्वीट करके मदद मांग चुके हैं। इन सभी मामलों में उन्हें रेलवे की ओर से मदद भी दी गई।

कुछ दिनों पहले इसी तरह एक पिता ने अपने दो बच्चों के लिए मदद मांगी थी। जिसके बाद यह बच्चे गलत हाथों में जाने से बच गए थे।

एक बार एक महिला द्वारा रेल में छेड़खानी की शिकायत मिलने पर भी उचित कार्रवाई की गई थी।

एक बार ट्रेन में भूखे बच्चों के लिए खाना मुहैया करवाया गया।

इतना ही नहीं एक आदमी ने अपने पिता की बीमारी की वजह से व्हील चेयर की व्यवस्था कराने की बात कही थी, जिसका इंतज़ाम तुरंत किया गया।

To Top