_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/01/","Post":"http://wahgazab.com/cobra-hid-in-boots-people-got-frightened/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/cobra-hid-in-boots-people-got-frightened/cobra-hid-in-boots-people-got-frightened-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम की पुण्यतिथि पर पीएम ने किया उनके स्मारक का उद्घाटन

डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम

 

डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम को कौन नहीं जानता, हाल ही में उनकी पुण्य तिथि पर प्रधानमंत्री ने “डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम स्मारक” का उद्घाटन कर, उनको सभी के लिए अमर बना दिया। आपको बता दें कि आज के दिन 27-7 2015 को डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम ने हम सभी को अलविदा कह दिया था। उनकी पुण्यतिथि पर पीएम नरेंद्र मोदी ने दक्षिण भारत के रामेश्वरम में “डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम स्मारक” का उद्घाटन किया। आपको हम यह भी बता दें कि डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम स्मारक का निर्माण “रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन” (डीआरडीओ) ने कराया है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने इस स्मारक का उद्घाटन करने के लिए डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम की एक प्रतिमा का अनावरण किया तथा उस पर फूल चढ़ा कर डॉ. कलाम को श्रंद्धाजलि दी। इस मौके पर पीएम मोदी ने डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम के पारिवारिक सदस्यों से भी बातचीत की। इस स्थान से पीएम मोदी ने “कलाम संदेश वाहिनी” नामक एक बस को भी हरी झंडी दिखाई। यह बस एक प्रदर्शनी की तरह ही है, जो देश के अलग-अलग राज्यों का दौरा करेगी और डॉ. कलाम के संदेश को जन जन में पहुंचाने का कार्य करेगी। 15 अक्टूबर को यह बस राष्ट्रपति भवन पहुंचेगी, यहां आपको हम यह भी बता दें कि 15 अक्टूबर को ही डॉ.एपीजे अब्दुल कलाम का जन्मदिन मनाया जाता है। डॉ. कलाम के भतीजे सलीम ने इस अवसर पर कहा कि “यह स्मारक भारत की विविधता और विभिन्न संस्कृतियों को प्रतिबिंबित करने के साथ ही कलाम को श्रद्धांजलि अर्पित करेगा। रॉकेट्स और मिसाइलों की प्रतिकृतियां को प्रदर्शित करेगा। उनका कहना है कि ये स्मारक इंडिया गेट की तरह भव्य लगेगा। कलाम ने इसरो में काम किया, जहां उन्होंने एसएलवी 3 को विकसित करने में मदद की थी और वह भी प्रदर्शनी में है।” इस प्रकार से आज डॉ. कलाम की पुण्यतिथि पर पीएम मोदी ने डॉ. कलाम के संदेश को जन-जन में प्रसारित करने के लिए उनके स्मारक का उद्घाटन कर सभी के लिए एक महान आदर्श की स्थापना की है।

Most Popular

To Top