_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/people-got-confused-when-two-girls-conned-everyone-to-marry-each-other/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/these-marvelous-airports-of-the-world-beats-even-the-most-fancy-of-the-restaurants/hotel-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/a58684c87aed349e5269bd367bca0a1a/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

इस्कॉन मंदिर में निकाली गई नौकरियां, करना होगा एक वर्ष का कोर्स

People lost job at ISKCON temple need to do one year course cover

वैसे तो जॉब कंपनियों द्वारा ही निकाली जाती हैं पर भारत के एक मंदिर में भी नौकरी के लिए भर्ती निकली हैं और इस नौकरी के लिए एक वर्ष का कोर्स करना भी जरूरी हैं। आपको बता दें कि जिस मंदिर में ये नौकरी निकली हैं उसका नाम “इस्कॉन मंदिर” हैं। इस्कॉन मंदिर देश विदेश के बहुत से स्थानों पर स्थित हैं और यह भर्ती भी उन सभी 360 मंदिरों के लिए निकली हैं। इन सभी मंदिरों में “जोनल सुपरवाइजर” की नौकरी निकली हैं। इन लोगों का कार्य मंदिर की सभी जिम्मेदारियों को संभालना होगा।

People lost job at ISKCON temple need to do one year courseimage source:

उज्जैन के इस्कान टेम्पेल में हाल ही में हुई एक बैठक में जोनल सुपरवाइजर के कार्य के पद को लेकर निर्णय लिया गया। जोनल सुपरवाइजर का कार्य करने के लिए उम्मीदवार को जीबीसी कॉलेज से एक वर्षीय कोर्स करना जरुरी होगा। इस कोर्स का पाठ्यक्रम अभी तक तय नहीं किया गया हैं पर जल्दी ही इस बारे में भी चर्चा होने की संभावना हैं।

People lost job at ISKCON temple need to do one year course 1image source:

आपको बता दें कि इस्कॉन का मतलब अंतरराष्ट्रीय श्रीकृष्ण भावनामृत संघ हैं। यह संघ देश विदेश के करीब 360 मंदिरो का संचालन करता हैं। सभी मंदिरो की व्यवस्था गवर्निंग बॉडी कमेटी तय करती हैं। वर्तमान में यह कमेटी मंदिर की व्यवस्था और शिक्षा का विस्तार करने का विचार कर रही हैं।

मंदिर पीआरओ राघव पंडित दास इस बारे में बताते हुए कहते हैं कि “मंदिर की शिक्षा के विस्तार के लिए उज्जैन में बैठक चल रहीं हैं। बैठक के तीसरे दिन पिछले 3 वर्षों के कार्य की समीक्षा की गई तथा मंदिर की सही व्यवस्था के लिए जोनल सुपरवाइजर की नियुक्ति का फैसला भी किया गया।” वर्तमान में इस्कॉन को लेकर जो बैठक चल रही हैं, वे 18 अक्टूबर तक चलेंगी।

To Top