टायर मरम्मत करने वाले पर बिजली विभाग ने ढाया कहर

अपनी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में ऐसी कई सुविधाएं हैं जिनके लिए हमें दूसरों पर आश्रित होना पड़ता है। जैसे बिजली, पानी, टेलीफोन कनेक्शन इत्यादि। ये सब सुविधाएं हमें मुफ्त में प्राप्त नहीं होती, इनके लिए हमें बिल के रूप में सरकार को कीमत चुकानी पड़ती है।
अब अगर आप एक आम इंसान हैं और बड़े ही सादे तरह से अपना जीवन बिता रहे हैं तभी अचानक से एक दिन आपके बिजली का बिल 3 या 4 हज़ार नहीं बल्कि पूरे 77 करोड़ 89 लाख रुपए आ जाए तो आप क्या करेंगे सोचिए? आप यह बात सोच भी नहीं पा रहे होंगे, लेकिन ऐसा सच में हुआ है।

हरियाणा के फरीदाबाद में टायर मरम्मत की एक छोटी-सी दुकान चलाने वाले व्यक्ति को उस समय झटका लगा जब उसके हाथ में 77 करोड़ 89 लाख रुपए का बिजली का बिल थमाया गया। दुकान के मालिक ने कहा कि जब उसने यह बिल अपने परिवार को दिखाया तो वह हक्के बक्के रह गए। दुकानदार ने बताया कि यह दुकान वह किराए पर लेकर चला रहा है। दुकान में वह सिर्फ एक बल्ब और एक पंखा ही चलाता है।

दुकानदार के अनुसार उसका बिजली का बिल हमेशा 2000-2500 रुपए ही आता है। पड़ोसियों ने बताया कि इस बिल को देखने के बाद दुकानदार की मां बीमार पड़ गई। यह बिल साउथ हरियाणा इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड ने 31 अक्टूबर को जारी किया था। इसी तरह अप्रैल 2007 में नारनौल में एक उपभोक्ता को 234 करोड़ रुपए का बिजली का बिल मिला था। जब इस बारे में बिजली विभाग के अफसरों से पूछा गया तो उन्होंने इसका कारण कम्यूटर में गड़बड़ी बताया।

To Top