इस अद्भुत मंदिर में शीश नवाते हैं नाग-नागिन

मंदिर में शिवलिंग पर नाग-नागिन के लिपटने वाली घटनाओं के बारे में आपने तो कई बार सुना होगा, पर क्या आप जानते है कि एक नाग-नागिन का जोड़ा शिव की पूजा करने के लिए रोज भक्तों की ही तरह भीड़ के साथ मंदिर में चला आता है। जी हां, ये बात सच है कैथल जिले के अरूणाय स्थित श्री संगमेश्वर महादेव मंदिर में ऐसा ही नजारा देखने को रोज मिलता है, जहां पर नाग-नागिन का जोड़ा इस अद्भुत मंदिर में शीश नवाने रोज आता है और बाद में सभी श्रृद्धालुओं के साथ ही पूजा करके वापस चला जाता है।

shiv2image source: 

बताया जाता है कि इस शिव मंदिर में कई और चमत्कार भी होते रहते है, जिसे सुनकर आप भी हैरान हो जाएंगे। बता दें कि शिव मंदिर पर ये नाग-नागिन का जोड़ा काफी सालों से आ रहा है, ये किसी को नुकसान नहीं पहुंचाता है। बल्कि इन श्रद्धालुओं के साथ ही यह जोड़ा भी शिव प्रतिमा की परिक्रमा करता है। इस जोड़े को देखने के लिए शिवरात्रि के अवसर पर श्रद्धालुओं का तांता लग जाता है। यहां के लोगों का मानना है कि यहां आज भी शिव स्वंयभू शिवलिंग के रूप में मुख्य मंदिर में विराजमान हैं।

    इस मंदिर में लोगों की हर मनोकामनाएं पूर्ण होती है, इसी वजह से बड़े-बड़े राजनेताओं से लेकर बड़ी-बड़ी हस्तियां भी शिव के दर्शन करने यहां पर पहुंचती है। मन्नत पूरी होने के लिए इस मंदिर में धागा बांधा जाता है, वहीं मन्नत पूरी होने के बाद धागा खोलने के लिए श्रद्धालुओं को इस मंदिर में दोबारा आना पड़ता है। माना जाता है कि इस जगह पर श्रापित हुई देवी सरस्वती ने अपने श्राप मुक्ति की प्रार्थना की थी। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां पर दूध को मथकर मक्खन नहीं निकाला जा सकता, अगर कोई ऐसा करता भी है तो तुंरत उस दूध में कीड़े पड़ने शुरू हो जाते है।

To Top