_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/04/","Post":"http://wahgazab.com/grooms-asks-dowry-in-the-nikah-and-bride-refuses-to-marry-him/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/grooms-asks-dowry-in-the-nikah-and-bride-refuses-to-marry-him/2-370/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

अनिल कपूर के जन्मदिन पर जानें उनकी कामयाबी का सफर

बॉलीवुड के एवर ग्रीन और झकास अभिनेता अनिल कपूर आज 59 साल के हो गए हैं। हालांकि आज भी उन्हें देख कर कोई उनकी उम्र का अंदाजा नहीं लगा सकता। अनिल कपूर का जन्म 24 दिसंबर 1959 को मुंबई के चेम्बुर इलाके में हुआ था। अनिल कपूर ने अपने अभिनय के दम पर दर्शकों के दिल में ऐसी जगह बना ली है कि आज भी लोग के दिलों में वह अपने दमदार किरदारों के रूप में ही जाने जाते हैं। किसी के लिए वह ‘राम लखन’ के लखन हैं, किसी के लिए ‘मिस्टर इंडिया’ के अरुण वर्मा तो किसी के लिए ‘नायक’ के शिवाजी राव।

अनिल कपूर ने अपने करियर की शुरुआत 1979 में उमेश मेहरा की फिल्म ‘हमारे तुम्हारे’ से की थी। इस फिल्म में उन्होंने एक सहायक अभिनेता की भूमिका निभाई थी। जिसके बाद उन्होंने 1980 में ‘हम पांच’ और 1982 में ‘शक्ति’ में भी काम किया। 1983 में उनकी एक और फिल्म आई ‘वो सात दिन’ जिसमें वह मुख्य भूमिका में नजर आए थे। इस फिल्म में उन्होंने उत्कृष्ट व स्वाभाविक प्रदर्शन किया। वैसे अनिल कपूर ने टॉलीवुड में भी काम किया है। उन्होंने तेलुगू में वम्सावृक्ष और मणिरत्नम की पहली कन्नड़ फिल्म ‘पल्लवी अनुपल्लवी’ में भी काम किया है। इसके बाद उन्होंने दिलीप कुमार के साथ ‘मशाल’ फिल्म में भी काम किया।

ekdum jhakaas

अनिल कपूर ने अब तक अपने सिनेमा करियर में अंदर बाहर, लैला, मेरी जंग, साहेब, मोहब्बत, कर्मा, आप के साथ, राम लखन, परिन्दा, लज्जा, नायक, ताल, सलाम-ए-इश्क आदि कई फिल्में की हैं। इतना ही नहीं उन्होंने ‘स्लमडॉग मिलियनेयर’ के साथ हॉलीवुड में भी कदम रखा। जिसके लिए उन्हें ऑस्कर अवॉर्ड से भी समानित किया गया।

अनिल कपूर ने अभिनय के अलावा फिल्म निर्माण में भी हाथ आजमाया है। उन्होंने बतौर निर्माता 2002 में ‘बधाई हो बधाई’, 2005 में ‘माई वाइफ मर्डर’, 2007 में ‘गांधी माई फादर’ और 2010 में ‘आईशा’ जैसी फिल्मों का निर्माण किया है। इतना ही नहीं उन्होंने टीवी पर 24 सीरीज टीवी शो का भी निर्माण किया था, जिसमें उनकी मुख्य भूमिका थी। अब सुनने में आ रहा है कि वह जल्द ही इसका दूसरा सीजन भी लेकर आ सकते हैं।

Most Popular

To Top