_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/one-of-the-top-5-south-indian-movie-that-earns-a-lot-of-fortune/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=43757","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

आज भी पृथ्वी पर रहते हैं भगवान हनुमान, गंधमादन नामक पर्वत है उनका निवास स्थान

Lord hanuman living at this mountain named gandh maadan

भगवान हनुमान की गिनती दुनिया के उन 8 लोगों में की जाती है जो अमर है। आज हम आपको बता रहें हैं वह स्थान जहां आज भी भगवान हनुमान निवास करते हैं। जी हां, आज हम आपको उस स्थान के बारे में जानकारी दे रहें हैं जिसको शास्त्रों में भगवान हनुमान का निवास स्थान बताया गया है। बताया जाता है कि इस पृथ्वी पर ऐसे 8 लोग हैं, जो अमर है। भगवान हनुमान भी उनमें से एक मानें जाते हैं। एक कथा बताती है कि देवी सीता तथा श्री राम से वरदान के बाद में वे चिरंजीवी हो गए थे और जन कल्याण के लिए उनको श्री राम ने पृथ्वी पर ही रहने के लिए कहा था।

hanumanimage source :

मान्यता है कि भगवान हनुमान गंधमादन पर्वत पर निवास करते हैं। गंधमादन पर्वत कैलाश पर्वत से उत्तर दिशा में स्थित है। महाभारत में भी इस पर्वत को लेकर कथा आती है। पांडव अपने अज्ञातवास के समय इस पर्वत पर पहुंचे थे और महाबली भीम को इस पर्वत पर ही भगवान हनुमान के दर्शन हुए थे। इस प्रकार से गंधमादन पर्वत को भगवान हनुमान का निवास स्थान माना जाता है। आपको हम बता दें कि इस पर्वत पर महर्षि कश्यप ने तपस्या की थी और इसी पर्वत को यक्ष, गन्धर्व आदि का निवास स्थान भी माना जाता है। यह पर्वत इतना ऊंचा है की इसके शिखर पर किसी वाहन से पहुंचना असंभव है। वर्तमान में यह पर्वत तिब्बत के क्षेत्र में आता है और इसी नाम का एक अन्य पर्वत रामेश्वरम में ही है। इस पर्वत पर एक मंदिर भी बना है जिसमें भगवान राम के साथ में भगवान हनुमान की प्रतिमाएं भी हैं। कुछ लोगों का कहना यह भी है कि यहां भगवान राम के चरण चिन्ह भी हैं। इस प्रकार से यह पर्वत भगवान हनुमान का निवास स्थान माना जाता है।

Most Popular

To Top