_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/bottles-of-water-are-being-used-to-save-this-seven-hundred-year-old-tree/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/bottles-of-water-are-being-used-to-save-this-seven-hundred-year-old-tree/glucose-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/0f66939619e6f091493652639d567514/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

यह किसान 80 की उम्र में भी खेती कर कमाता है लाखों रूपए, पढ़िये इनके बारे में

किसान

 

कुछ लोग बढ़ती उम्र में भी वो कर जाते हैं जो लोग जवानी में नहीं कर पाते। आज हम आपको एक ऐसे ही व्यक्ति से मिलवाने जा रहें हैं। आपको बता दें कि यह व्यक्ति एक किसान है और खेती करता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस किसान की वर्तमान उम्र 80 वर्ष है। इतनी उम्र में भी यह किसान उत्साह के साथ खेती करता है। इस व्यक्ति का नाम “अट्ठी लाल कुशवाहा” है। अट्ठी लाल मध्य प्रदेश के कटनी जिले के अंतर्गत आने वाले मझगवां गांव के निवासी हैं। इतनी ज्यादा उम्र में आज भी ये खेती कर रहें हैं और प्रतिवर्ष करीब 4 लाख रूपए आसानी से कमा रहें हैं।

सब्जियां ऊगा कर कमाते हैं लाभ –

किसानImage Source:

अट्ठी लाल सब्जी का व्यवसाय करते हैं। उनका यह काम सिर्फ अपने जिले तक सिमित नहीं है बल्कि पड़ोस के जिले शहडोल तथा उमरिया तक है। अट्ठी लाल ने खेती को न सिर्फ “लाभ का कार्य” बनाया है बल्कि लोगों को करके भी दिखाया है। वे वर्तमान में मिर्च, फूल गोभी, भिंडी, शिमला मिर्च आदि की खेती कर रहें हैं। आउट सीजन में भी उनके खेत में सब्जियां उग सकें और वे उनसे ज्यादा लाभ कमा सकें इसके लिए उन्होंने “संरक्षित सब्जी योजना” के तहत अपने खेत में “शैडनेट हाउस” को निर्मित कराया है।

करते हैं मल्चिंग और ड्रिप का उपयोग –

किसानImage Source:

अट्ठी लाल अपनी खेती में मल्चिंग और ड्रिप का उपयोग भी कर रहें हैं। मल्चिंग तथा ड्रिप के फायदे को बताते हुए उन्होंने कहा कि “इससे हमें सौ गुना लाभ मिल रहा है। इससे निराई का चार घंटे का कार्य महज एक घंटे में पूरा हो जाता है तथा मजदूरी भी बचती है। इसके अलावा ड्रिप का भी बहुत फायदा है। इसके माध्यम में पौधों में पानी बहुत आसानी से तथा कम समय में लग जाता है। पानी की खपत भी कम होती है साथ ही मजदूरों की आवश्यकता भी नहीं पड़ती।” इस प्रकार से अट्ठी लाल 80 वर्ष की उम्र में भी खेती पर लगें हैं और लाखों रुपया कमा रहें हैं।

To Top