महिलाओं की वर्जिनिटी को उनकी पवित्रता से जोड़ना कितना सही

0
452

जमाना जितनी तेजी से बदल रहा है क्या आपको नहीं लगता कि लोगों को भी जमाने के साथ बदलने की जरूरत है। वैसे ऐसा भी नहीं है कि लोग जमाने के साथ नहीं बदल रहे हैं, लेकिन कहीं ना कहीं अभी भी जमाने को टक्कर दे रहे कुछ लोगों में ऐसे पुरानी धारणाएं, ऐसी सोच देखी जाती है जिनको आज के वक्त में जानने के बाद हैरानी होना लाजमी है। वहीं, हैरानी तब ज्यादा चौंकाने वाली बात बन जाती है जब अमेरिका जैसे विकसित देशों में भी कुछ लोग ऐसी दकियानूसी सोच रखते हैं। आज हम आपको खुले समाज का देश कहे जाने वाले अमेरिका का एक ऐसा ही दकियानूसी चेहरा दिखाने जा रहे हैं जिसको जानकर आप हैरान हो जाएंगे।

No Hymen4Image Source:

आप में से ज्यादातर लोग फेसबुक पर होंगे। आपने आज तक फेसबुक पर कई हैरान कर देने वाले ग्रुप के नाम भी जरूर पढ़े होंगे। आज हम जिस फेसबुक ग्रुप के बारे में बात कर रहे हैं उसका नाम है “No Hymen, No Diamond”। यह ग्रुप फेसबुक पर बड़े गर्व से इस बात को कहता है कि जो महिलाएं वर्जिन नहीं होती, वह शादी के लायक नहीं होती हैं।

No Hymen, No Diamond2Image Source:

ऐसे में आपको इस फेसबुक पेज को देखकर क्या यह नहीं लगता कि अमेरिका चाहे अपने आपको कितना भी विकसित और खुले समाज का बताए, लेकिन कहीं ना कहीं वह सोच में अभी भी काफी पीछे है। इस पेज को चलाने वाले सदस्यों का मानना है कि जिन महिलाओं ने शादी से पहले सेक्स किया है वो गंदी और अपवित्र हैं। ऐसे में जरा इनसे ये पूछा जाए कि जो पुरुष शादी से पहले सेक्स का मजा लेते हैं उनके बारे में इनकी क्या राय है।

No-Hymen-No-Diamond3Image Source:

बता दें कि “No Hymen, No Diamond” में डायमंड का मतलब शादी की अंगूठी से है। वहीं, हाइमन का मतलब वो झिल्ली जिससे महिला का वर्जिन होना या ना होना निर्धारित किया जाता है। वैसे ऐसे पेज महिलाओं का अपमान करने के अलावा कुछ कर भी नहीं सकते हैं। इनकी मानसिकता इतनी तुच्छ होती है कि इसका मकसद ही महिलाओं को नीचा दिखाकर पूरा होता है। वैसे ऐसी मानसिकता को दिखाने वाला यह अकेला पेज नहीं है, लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि इन पेजों के भड़कावे में आकर इनको लाइक करने वाले भी कम नहीं है।

No Hymen, No DiamondImage Source:

वैसे आगे ऐसा भी हो सकता है कि कल हमारे देश का पुरुषवादी समाज भी इस पेज को लाइक कर ले। ऐसे में जो महिलाओं के प्रति इस तरह की मानसिकता रखते हैं ऐसे लोगों को ह्यूमन एनाटॉमी का पाठ पढ़ाना बहुत जरूरी है।

इन लोगों को सबक सिखाने के लिए महिलाओं को चाहिए कि वह ऐसे लोगों को बताएं कि वह कोई प्रोडक्ट नहीं हैं। जिसके लिए हाइमन का लगा होना ही उनके फ्रेश होने की गारंटी हो। फिर भी अगर कोई ऐसी मानसिकता रखता है तो उसके लिए तो हम बस यही कहेंगे कि वर्जिन दूल्हन चाहने वाले ऐसे लोग हमेशा कुंवारे ही रह जाएं। जिनको यह तक नहीं पता कि महिला की हाइमन जरूरी नहीं कि सेक्स से ही टूटे। वह किसी अन्य वजहों से भी टूट सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here