_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/02/","Post":"http://wahgazab.com/goddess-kali-used-to-show-up-before-this-devotee/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/kneading-dough-with-legs-at-kake-da-hotel-in-delhi/attachment/31/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

तो इसलिए दूल्हे को घोड़े की जगह घोड़ी पर ही बैठाया जाता है

आपने शादियां काफी देखी होंगी पर क्या आप जानते हैं कि दूल्हें को घोड़े की जगह घोड़ी पर ही क्यों बैठाया जाता है, असल में यह एक प्रथा है जो की सदियों से चल रही है जिसमें दूल्हे को घोड़ी पर ही बैठाया जाता है, पर इस बात को बहुत कम लोग ही जानते हैं कि दूल्हें को घोड़ी पर ही क्यों बैठाया जाता है, इसलिए आज हम आपको बता रहें हैं कि दूल्हे को घोड़े पर न बैठा कर घोड़ी पर ही वधू पक्ष के घर की ओर क्यों रवाना किया जाता है।

groom-in-horse-1image source:

असल में यह प्रथा पौराणिक घटना पर ही आधारित है जिसके अनुसार जब भगवान सूर्य के चार बच्चे यम, यमी, तपती तथा शनि पैदा हुए थे, तो उस समय उनकी पत्नी “रूपा” ने घोड़ी का ही रूप धारण किया था। उस समय से ही घोड़ी को ही उत्पत्ति का कारक माना जाता है। इसके अलावा घोड़ी चतुर, दक्ष और बुद्धिमान भी होती और उसको सिर्फ एक स्वस्थ व्यक्ति ही नियंत्रित कर सकता है, इसलिए घोड़ी पर बैठने से यह एक प्रतीत भी होता है कि घोड़ी पर बैठने वाला शख्स न सिर्फ स्वस्थ है बल्कि वह अपने परिवार तथा अपनी पत्नी की बागडोर को भी अच्छे से संभाल सकता है।

Most Popular

To Top