_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/03/","Post":"http://wahgazab.com/peope-get-trained-for-suicide-and-they-sleep-in-the-graves-before-death/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/every-wish-granted-here-at-this-temple-after-hitting-a-stone/6-24/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

सलमान की चहेती रहीं स्नेहा उलाल को जन्मदिन की शुभकामनाएं

स्नेहा उलाल हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में एक ऐसा नाम है जिसे केवल इसी लिए जाना जाता है क्योंकि उनकी शक्ल और आंखें ऐश्वर्या राय बच्चन से मिलती है। स्नेहा का जन्म 18 दिसंबर 1985 को ओमान में हुआ था। स्नेहा कॉलेज के दिनों में सलमान की बहन अर्पिता खान की दोस्त थीं। जिसके कारण उन्हें सलमान से मिलने का मौका मिला। वैसे स्नेहा एक समय में तो काफी चर्चा में आई थीं, पर उसके बाद वह हमेशा के लिए गायब हो गईं।

sneha ullalImage Source: http://sakshipost.com/

स्नेहा की चर्चा कभी भी उनकी फिल्मों या उनके अभिनय को लेकर नहीं हुई, बल्कि हमेशा वह इस बात को लेकर सुर्ख़ियों में रहीं कि उनकी शक्ल और आंखें ऐश्वर्या राय बच्चन जैसी दिखती हैं।

स्नेहा उलाल के फिल्मों में आने की वजह भी उनका चेहरा और आंखें ही बनी। 2004 के आस-पास जब सलमान खान का ऐश्वर्या राय बच्चन से ब्रेकअप हुआ तो उन्हीं दिनों उनकी मुलाकात स्नेहा उलाल से हुई। स्नेहा को देख सलमान को लगा कि वह दुनिया को ऐश्वर्या की डुप्लीकेट से इंट्रोड्यूस करा सकते हैं। बस फिर क्या था, सलमान ने स्नेहा को लेकर एक फिल्म ‘लकी नो टाइम फॉर लव’ बना दी। वैसे फिल्म में किसी रूप में सलमान और स्नेहा की जोड़ी बनती नहीं दिखी और ना ही यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कुछ कमाल कर सकी।

sneha-ullalImage Source: http://www.hdwallpapersimages.com/

एक साल बाद स्नेहा फिर से एक फिल्म में नजर आईं, मगर इस बार वह सलमान के भाई सोहेल खान के साथ नजर दिखीं। कहा जाता है कि इस फिल्म को दिलाने में भी सलमान का योगदान था, लेकिन स्नेहा की किस्मत इस बार भी उनका साथ नहीं दे पाई और यह फिल्म भी बॉक्स ऑफिस पर कुछ कमाल नहीं कर पाई। इसके बाद स्नेहा की ‘जाने भी दो यारों’, ‘काश मेरे होते’, ‘इट्स रॉकिंग’ और ‘क्लिक’ जैसी मल्टीस्टारर फिल्में भी आईं, पर यह फिल्में भी फ्लॉप ही रहीं। जिसके बाद स्नेहा बॉलीवुड से ही दूर हो गईं।

Most Popular

To Top