जब खेतों में काम कर रहे किसान ने देखा अपनी बेटी के 12वीं का रिजल्ट तब..

12वीं का रिजल्ट

यूपी बोर्ड के 10वीं और 12वीं बोर्ड के परिणाम शनिवार को घोषित कर दिए गए है। जिसमें बड़ौत की तनु तोमर ने 97.80% अंक लाकर 12वीं परीक्षा में टॉप किया। वहीं कानपुर के गौतम रघुवंशी ने 97.17 फीसदी नंबरों के साथ 10वीं परीक्षा टॉप किया।

बड़ौत के श्रीराम शिक्षा मंदिर इंटर कॉलेज से पढ़ी तनु तोमर ने इस सफलता को पाने के लिये काफी कड़ी मेहनत की थी तनु ने अपनी मिली इस कामयाबी के बारें में बताया कि वो 10वीं क्लास में 12 घंटे पढ़ती थी और 12वीं के लिए वो 18-18 घंटे तक पढ़ाई करती थी। तनु में इसके लिए सबसे पहले अपने पिताजी का शुक्रिया अदा किया। और मिली सफलता की जानकारी उन्होनें सबसे पहले खेत काट रहे पिताजी को दी। तनु का बताया है कि उसने बिना किसी कोचिंग के सोशल मीडिया से दूरी बनाकर इस सफलता को अर्जित किया है।

12वीं का रिजल्ट

तनु आगे चलकर डॉक्टर बनना चाहती है। और अब वो  NEET की परीक्षा की तैयारी के लिए वो दिल्ली आने वाली है। तनु डॉक्टर बनकर गरीबों की सेवा करना चाहती है। वहीं दूसरी तरफ यूपी के 10वीं बोर्ड के आये परिणाम में गौतम रघुवंशी ने टॉप किया है। गौतम ने 97.17 % पाकर बाकी सभी छात्रों को पीछे छोड़ दिया है। एक साधारण से परिवार के गौतम अपनी लगन से आगे चलकर आईआईटियन बनना चाहते है।

गौतम रघुवंशी के अनुसार परीक्षा में टॉप आने के लिए उन्होनें पूरा समय पढ़ाई में झोंक दिया था। गौतम के घरवालों ने अपने बेटे की पढ़ाई के लिये घर में टीवी देखना बंद कर दिया था।

12वीं का रिजल्ट

अभी हम यहां साधारण से परिवार में रहने वाले उन विद्यार्थियों की बात कर रहे थे। जिन्होंने बिना किसी की सहायता के ऊंचे शिखर पर पहुच कर अपने स्कूल के साथ जिले का नाम रोशन किया है। लेकिन इस बार तो यूपी के रामपुर के ज़िला जेल में सजा काट रहे कैदियों ने भी परीक्षा में पास होकर काफी अच्छी सफलता प्राप्त की है। इस साल इस जेल के 8 कैदियों ने हाईस्कूल की परीक्षा के लिए फॉर्म भरा था। जिनमें से 5 कैदी ही 70 से 75 प्रतिशत पाकर पास हो पाए। इनके पास होने की खुशी में जेल अधीक्षक ने कैदियों को मिठाईयां बाटंकर इन्हे प्रोत्साहित भी किया।

इस बार के यूपी बोर्ड में 12वीं की परीक्षा में इस बार 3 लाख 80 हज़ार के करीब छात्र ने भाग लिया था जिसमें से 70.06 फीसदी बच्चों ने पास किया. वहीं दूसरी तरफ 10वीं में 4 लाख 63 हज़ार छात्रों ने भाग लिया था जिसमें से 80.07 प्रतिशत छात्रों ने सफलता हासिल की।

To Top