_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/%e0%a4%95%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%b2-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%87%e0%a4%82%e0%a4%9c%e0%a5%80%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%b0-%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%a1%e0%a4%bc-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%ac/%e0%a4%87%e0%a4%b8-%e0%a4%98%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a5%80-%e0%a4%ac%e0%a4%a6%e0%a5%8c%e0%a4%b2%e0%a4%a4-%e0%a4%ac%e0%a4%a8%e0%a5%87-%e0%a4%b0%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%89%e0%a4%b0%e0%a5%8d%e0%a4%a1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/705a904e083c70cef81a3db17f0d9064/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

यहां पर भक्तों को प्रसाद में मिलते है सोने से बने आभूषण

आप और हम कई बार मंदिर गए होंगे, मंदिर में पहुंचकर जब हम पूजा पूरी कर लेते हैं तो हमें प्रसाद मिलता है। देश और दुनिया के विभिन्न मंदिरों में प्रसाद के रूप में भोजन, मिठाईयां या फिर कुछ और खाने की चीज दी जाती हैं, लेकिन आज हम आपके लिए एक ऐसे मंदिर की जानकारी लेकर आएं हैं जहां पर आप जरूर जाना चाहेंगे, क्योंकि इस मंदिर में भक्तों को प्रसाद के रूप में सोने के गहने दिए जाते हैं। चलिए आपको बताते हैं कि देश में किस जगह पर यह मंदिर मौजूद है।

ratlam-temple1Image Source:

मध्य प्रदेश के रतलाम में प्रचीन महालक्ष्मी जी का मंदिर है। इस मंदिर की मान्यता दूर-दूर तक फैली हुई है। दिपावाली के विशेष अवसर पर इस मंदिर को ही बेहद ही खूबसूरत अंदाज में सजाया जाता है। इस मंदिर को दिपावली के मौके पर नोटों से ही सजाया जाता है। यहां पर भक्तों के द्वारा चढ़ाए गए नोटों से ही पूरे मंदिर में वंदनवार बनाई जाती है। बताया जाता है कि दिपावली आने से पूर्व ही भक्तों द्वारा मंदिर में भारी मात्रा में नकदी और सोने चांदी के जेवरात चढ़ाए जाते है। भक्तों के द्वारा चढ़ाए गए जेवरातों और नकदी को एक रजिस्टर में नोट किया जाता है, हर भक्त के नाम और उसके द्वारा चढ़ाई गई राशि का विवरण रजिस्टर में दर्ज कर लिया जाता हैं। दिपावली से पहले महालक्ष्मी को इन आभूषणों से ही सजाया जाता है। जिसके बाद दिपावली के दिन इन्हीं जेवरातों और नकदी को उन्हीं भक्तों को प्रसाद रूप में लौटा दिया जाता है। यह पंरपरा कई वर्षों से यूं ही चली आ रही है।

To Top