_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/05/","Post":"http://wahgazab.com/the-daughter-in-law-of-royal-family-meghan-cannot-give-autograph-and-purchase-nail-polish/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/dog-puppy-bought-home-turned-out-as-a-wild-animal/bear-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/e90a5e0b60a6b68d662a8db32927ffdd/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

कुली ने रेलवे स्टेशन के वाईफाई से पढ़कर पास की सिविल सर्विस की परीक्षा

कुली

कहते हैं कि आपके मन में कुछ करने की चाह हो तो कोई कमी व किसी तरह की परेशानी आपको अपनी मंजिल तक पहुंचने से नही रोक सकती है। दुनिया में जितने भी लोग हुए है जिन्होंने अपने जीवन में कुछ हासिल किया है उन्हें कभी भी आसान रास्ते नही मिले। वह कई कठिनाईयों का सामना करने के बाद ही अपनी मंजिल तक पहुंच पाए। कुछ इसी तरह की कहानी केरल के एर्नाकुलम रेलवे स्टेशन पर काम करने वाले कुली श्रीनाथ के. की भी हैं।

जिसने अपने रेलवे स्टेशन के वाई फाई से अपनी पढ़ाई की और इंटरनेट की मदद से ही केरल पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा पास कर ली। इस परीक्षा को पास करने के लिए श्रीनाथ ने कोई रोजाना दिन भर किताबें नही पढ़ी बल्कि अपना कुली का काम करते हुए अपने फोन पर ही तैयारी कर ली। फिलहाल उनका साक्षात्कार का राउंड बाकि है, अगर वह उसमे सफल होते हैं तो वह भूमि राजस्व विभाग में विलेज फील्ड असिस्टेंट की पोस्ट पर तैनात हो जाएंगे।

तीसरी बार में मिली सफलता –

तीसरी बार में मिली सफलताImage source:

आपको बता दें कि श्रीनाथ को यह सफलता एक बार पढ़ कर ही नही मिल गई, बल्कि तीसरे प्रयास में जाकर वह सफल हुए है। श्रीनाथ पिछले 5 सालों से इस रेलवे स्टेशन पर एक कुली के तौर कार्य कर रहे हैं। अपनी पहली दो परीक्षा में श्रीनाथ ने केवल किताबों से पढ़ाई कि मगर किताबे पढ़ने के लिए पर्याप्त समय न मिलने के कारण वह पास नही हो पाए, मगर तीसरी बार की परीक्षा के लिए उन्होंने इंटरनेट की मदद ली। वह रेलवे स्टेशन की फ्री वाईफाई सुविधा का इस्तेमाल करते थे। वह दिन भर इयरफोन लगाकर अपना लेक्चर सुनते रहते थे और साथ साथ अपना कुली का काम करते रहते थे। रात में जब वह अपने काम से फ्री होते थे तो दिनभर की पढ़ाई को फिर से रिवाइज कर लेते थे। बहरहाल श्रीनाथ की मेहनत और उनकी समझ ने उन्हें सफलता दिलाई।

To Top