_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/bottles-of-water-are-being-used-to-save-this-seven-hundred-year-old-tree/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/bottles-of-water-are-being-used-to-save-this-seven-hundred-year-old-tree/glucose-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/0f66939619e6f091493652639d567514/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

बच्चों को वंदे मातरम् नहीं गाने देता यह प्रिंसिपल, करता है बेरहमी से पिटाई

वंदे मातरम्

 

स्कूलों में देश का राष्ट्रीयगान वंदे मातरम् गाना कोई अपराध नहीं होता। आज भी देश के अनगिनत स्कूलों में इसको गाया जाता है, जो की हमारे देश के लिए हमारी राष्ट्र भक्ति का सूचक है। मगर यदि किसी स्कूल में अगर इस गाने को गाने पर पाबंदी लगा दी जाए या इसे गाने पर बच्चों की पिटाई की जाएं तो आप क्या कहेंगे। आपको बता दें कि हालही में एक ऐसा ही मामला सामने आया है जिसमें एक स्कूल प्रिंसिपल ने बच्चों की बेरहमी से पिटाई की, क्योंकि वे वंदे मातरम् का गान कर रहें थे। यह मामला उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर से सामने आया है। यहां के एक सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल बच्चों की पिटाई का दोषी साबित हुआ और उसको बेसिक शिक्षा अधिकारी ने निलंबित कर दिया है।

वंदे मातरम्Image Source: 

यह मामला “जाफरीखानी प्राथमिक विद्यालय” नामक स्कूल मिर्जापुर के जमालपुर का है। इस स्कूल के प्रधानाचार्य “शाहिद फैजल” पर आरोप लगें हैं कि वे सुबह के समय की प्रार्थना में हाथ जोड़ने से बच्चों को मना करते थे। यदि कोई बच्चा वंदे मातरम् का गायन करता तथा या भारत माता की जय बोलता था तो वे उस बच्चे की बेरहमी से पिटाई करते थे। इस गांव के स्थानीय निवासी जन्मेजय बताते हैं कि जब बच्चें भारत माता की जय या वंदे मातरम के नारे लगाते थे तो प्रिंसिपल उनकी बेरहमी से पिटाई करते थे। इस बात की शिकायत की गई और मामला शिक्षा विभाग के अधिकारियों तक पहुंचा। शिक्षा विभाग की ओर से मामले की जांच की गई। जिसमें प्रिंसिपल पर लगे सभी आरोप सही पाए गए। इसके बाद बेसिक शिक्षाधिकारी प्रवीण त्रिपाठी ने प्रिंसिपल शाहिद फैजल को निलंबित कर दिया।

To Top