_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/06/","Post":"http://wahgazab.com/check-out-the-first-tv-commercial-of-dabbu-uncle-and-the-dance-he-did/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/this-infant-started-to-walk-just-after-birth-doctors-are-surprised/video-8/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/ea6a6e77ca639bd8e8c69deaa8f1ad28/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

कॉमनवेल्थ 2018 – मिलिए इस ड्राइवर के बेटे से जिसने देश को दिलाया पहला मैडल

कॉमनवेल्थ 2018

आपने सुना ही होगा कि प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है। यदि आपकी मेहनत अच्छी है और किस्मत आप पर मेहरबान है तो आपको आगे बढ़ने से कोई नही रोक सकता है। आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहें हैं। यह व्यक्ति अपने ही देश का एक खिलाड़ी है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह खिलाडी एक ट्रक ड्राइवर का बेटा है और इसने अपनी मेहनत और लगन से कॉमनवेल्थ 2018 में देश को पहला मेडल दिलाया है। इस खिलाड़ी का नाम “पी गुरुराजा” है और इन्होने वेटलिफ्टिंग में देश को पहला मेडल दिलाया है।

पहले नहीं थे वेटलिफ्टर

http://sth.india.com/hindi/sites/default/files/2018/04/05/220268-3-p-guru-raja-pti-4.jpgImage source:

आपको बता दें कि पी गुरुराजा पहले वेटलिफ्टर नहीं थे बल्कि एक पहलवान थे। 2010 में उन्होंने वेटलिफ्टिंग के क्षेत्र के कदम रखा तथा अब कॉमनवेल्थ 2018 में देश को पहला मैडल दिलाने में कामयाब हुए।

गरीब परिवार से हैं पी गुरुराजा  

गरीब परिवार से हैं पी गुरुराजा  Image source:

आपको बता दें कि पी गुरुराजा एक गरीब परिवार से हैं लेकिन उन्होंने अपने जुनून के आगे कभी गरीबी को नहीं आने दिया। परिवार में कुल 8 भाई बहन है। पिता जी एक ट्रक ड्राइवर थे लेकिन एक हादसे ने उनकी नौकरी भी छीन ली। इसके बाद परिवार की जिम्मेदारी पी गुरुराजा पर आ गई। पी गुरुराजा ने मेहनत की तथा एयरक्राफ्ट मैन की जॉब पा ली। इस प्रकार से पी गुरुराजा का जीवन कुछ आगे बढ़ा। आज पी गुरुराजा एक खिलाड़ी के रूप में सभी के सामने आये तथा अपनी मेहनत और प्रतिभा के बल पर उन्होंने देश को पहला मैडल दिलाया।

To Top