_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/01/","Post":"http://wahgazab.com/know-why-meghnads-head-was-laughing-even-after-being-separated-from-the-body/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/know-why-meghnads-head-was-laughing-even-after-being-separated-from-the-body/know-why-meghnads-head-was-laughing-even-after-being-separated-from-the-body-2/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

शिरडी साईं मंदिर में भक्तों द्वारा पैदल चलने से होगी बिजली की उत्पति

Walking of devotees in Shirdi Sai temple will produce electricity cover

 

 

आपने बहुत से मंदिर देखें होंगे पर क्या आपने किसी ऐसे मंदिर को देखा है जहां भक्तों के जानें से बिजली की उत्पति होती है यदि नहीं तो आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बता रहें हैं। आप शिरडी के साईं मंदिर के बारे में तो जानते ही होंगे। शिरडी साईं मंदिर साईं भक्तों के लिए एक मुख्य स्थान है। यह मंदिर महाराष्ट्र में स्थित है। इस मंदिर में अब एक ऐसा बदलाव होने जा रहा है जो पहले किसी अन्य मंदिर में नहीं हुआ है। आपको बता दें कि इस मंदिर में आने वाले भक्तों के पैदल चलने से अब बिजली उत्पन होगी यानि शिरडी साईं मंदिर में दर्शन करने के लिए आने वाला हर भक्त अब बिजली उत्पादन में अपना योगदान देगा।

लगाया जायेगा “फुट एनर्जी सिस्टम”

Walking of devotees in Shirdi Sai temple will produce electricityimage source:

आपको बता दें कि श्री साईं बाबा संस्थान ट्रस्ट ने हाल ही में एक निजी कंपनी की सांझेदारी से “फुट एनर्जी सिस्टम” को मंदिर परिसर में लगाने की योजना बनाई है। इस प्रोजेक्ट के तहत मंदिर परिसर में अब ऐसे इक्विपमेंट लगाए जायेंगे जो पैर से दबने पर बिजली का उत्पादन करेंगे। इस प्रोजेक्ट के तहत मंदिर परिसर में 200 पेडल लगाए जाने की योजना है। ये पेडल भक्तों के चलने से जितना अधिक दबेंगे उतनी ही अधिक बिजली का उत्पादन होगा। आपको बता दें कि शिरडी साईं मंदिर में प्रतिदिन करीब 50 हजार भक्त दर्शन के लिए आते हैं। ऐसे में बड़े स्तर पर बिजली का उत्पादन संभव होगा। मंदिर परिसर में उत्पादित यह बिजली भक्तों के लिए रोशनी तथा पंखें चलाने में प्रयोग की जाएगी।

Most Popular

To Top