_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/12/","Post":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-cow-which-requires-4-men-to-collect-milk/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/know-about-the-amazing-cow-which-requires-4-men-to-collect-milk/know-about-the-amazing-cow-which-requires-4-men-to-collect-milk-1/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

खास प्रकार का यह खून माना जाता है अमृत, बिकता है 10 लाख रूपए प्रति लीटर

खून

आपने खून का रंग लाल ही देखा होगा पर आज हम जिस खून के बारे में आपको बता रहें हैं। उसका रंग नीला होता है, साथ ही उसको “अमृत” माना जाता है। जी हां, आज हम आपको एक ऐसे जीव के खून के बारे में बताने जा रहें हैं जो अपने आप बहुत ख़ास होता है। आपको हम बता दें की यह खास खून “हॉर्स-शू केकड़े” का होता है और इसको मेडिकल साइंस में अमृत के सामान माना जाता है। इस जीव का वैज्ञानिक नाम “Limulus polyphemus” है। माना जाता है की पिछले 45 करोड़ वर्ष से इस केकड़े की प्रजाति अपना अस्तित्व बनाये हुए है। इन केकड़ों के खून में एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टी होती है इसलिए यह ख़ास माना जाता है। इस केकड़े के ब्लड में “कॉपर बेस्ड हीमोसाइनिन” नामक पदार्थ होता है। इसी लिए इसका रंग नीला होता है, जो की आक्सीजन को सारी बॉडी में ले जाता है। जिन जीवों के खून का रंग लाल होता है उनमें यह कार्य खून में मिले हीमोग्लोबिन व् आयरन करते हैं।

खूनImage Source:

डॉक्टर इस केकड़े के खून को मानव शरीर के अंदर इंजेक्ट कर खतरनाक बैक्टीरिया की पहचान करते हैं। असल में यह खून शरीर के अंदर खतरनाक बैक्टीरिया की बहुत सटीक पहचान करता है। इस प्रकार से मानव के शरीर में दवा के नकारात्मक प्रभावों का पता लगता है। इसी कारण से बाजार में इस जीव के खून को 10 लाख रूपए प्रति लीटर के हिसाब से बेचा जाता है। आपको बता दें की इस खून के लिए प्रति वर्ष 5 लाख केकड़ों का खून निकाला जाता है।

Most Popular

To Top