_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2018/04/","Post":"http://wahgazab.com/people-got-confused-when-two-girls-conned-everyone-to-marry-each-other/","Page":"http://wahgazab.com/aadhaar/","Attachment":"http://wahgazab.com/these-marvelous-airports-of-the-world-beats-even-the-most-fancy-of-the-restaurants/hotel-cover/","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/37779/","Custom_css":"http://wahgazab.com/flex-mag/","Oembed_cache":"http://wahgazab.com/a58684c87aed349e5269bd367bca0a1a/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=38240","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

भारत में यहां लोग खा रहें हैं चूहें, जानें क्यों

देश में खाने की किसी भी चीज की कमी नहीं है, पर फिर भी भारत के एक राज्य के लोग चूहें खा रहें हैं, हालही में यह चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। जी हां, यह सच है और यही कारण है कि भारत के इन लोगों ने बकायदा अपने मुंह में चूहा दबा कर प्रदर्शन तक किया है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि चूहें खा कर गुजारा करने वाले लोग भारत के तमिलनाडु के हैं।

असल में तमिलनाडु में वर्षा कम होने के कारण वहां की खेती बिल्कुल ठप हो गई है, जिसके बाद में वहां के किसानों को न सिर्फ आर्थिक परेशानी उठानी पड़ रही है, बल्कि ये किसान भूख से भी जूझ रहें हैं। इसलिए इन किसानों ने तमिलनाडु में एक प्रदर्शन किया, जिसमें ये लोग अपने मुंह में चूहे को दबाकर सड़को पर उतरे, चूहें को मुंह में दबाना इस प्रदर्शन में इस बात का प्रतीक था कि अब हालात इस कदर खराब हो चुकें हैं कि लोगों के पास खाने के लिए राशन नहीं बचा है और इसलिए लोग चूहों को खा कर गुजरा कर रहें हैं। इन सभी किसानों ने Desiya Thennidiya Nadhigal Inaippu Sangam के माध्यम से यह प्रदर्शन किया था, इन परेशान किसानों का कहना है कि इस बार वर्षा कम होने की वजह से धान की सारी फसल खराब हो चुकी है, जिसकी वजह से ये किसान अब भुखमरी और गरीबी की दलदल में धसते जा रहें हैं।

desiya-thennidiya-nadhigal-inaippu-sangam-1Image Source:

Desiya Thennidiya Nadhigal Inaippu Sangam के अध्यक्ष Ayyakannu ने इस प्रदर्शन के दौरान कहा कि अब तक हमारे जिले में फसल बर्बाद होने के कारण लगभग 40 किसान आत्महत्या कर चुके हैं और हम लोग अपने जिला प्रसाशक के पास भी इस समस्या को लेकर गए ताकि किसानों को कुछ मुआवजा मिल सके, पर अभी तक हमारे किसानों के लिए कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

असल में तमिलनाडु में इस बार किसानों की स्थिति बहुत ज्यादा खराब हो चुकी है क्योंकि इस बार वहां वर्षा बहुत कम हुई है इसलिए अब तमिलनाडु के किसान सरकार से तमिलनाडु को सूखाग्रस्त प्रदेश घोषित करने की मांग कर रहें हैं।

To Top