_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"wahgazab.com","urls":{"Home":"http://wahgazab.com","Category":"http://wahgazab.com/category/uncategorized/","Archive":"http://wahgazab.com/2017/04/","Post":"http://wahgazab.com/people-drink-filtered-water-through-corpses-here-at-this-place/","Page":"http://wahgazab.com/addd/","Attachment":"http://wahgazab.com/?attachment_id=37006","Nav_menu_item":"http://wahgazab.com/28118/","Wpcf7_contact_form":"http://wahgazab.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=154","Mt_pp":"http://wahgazab.com/?mt_pp=14714"}}_ap_ufee

यहां हर महिला के होते हैं आठ पति

आपने अभी तक एक महिला का एक ही पति देखा होगा, जो की सामान्य तौर पर समाज में सभी वर्गों में होता है पर यदि कोई आपसे कहें कि अपने देश में ही एक ऐसी भी जगह है जहां पर एक ही महिला के आठ पति होते हैं, तो आप जानकार चकित हो ही जाओगे। आज हम आपको एक ऐसी ही जगह के बारे में बताने के लिए जा रहें हैं जहां पर हर महिला के 1 से अधिक पति होते हैं और उनकी संख्या आठ तक भी देखी गई है। आइये जानते हैं इस जगह के बारे में।

असल में यह एक गांव है, जो की मध्यप्रदेश और राजस्थान की सीमा पर स्थित है, दरअसल इस क्षेत्र में लड़कियों की कमी है इसलिए यहां पर लड़की जिस परिवार में शादी करती है वहां पर दूल्हे के सभी भाइयों से भी शादी करती है। इस गांव की एक दुल्हन के बाकायदा आठ पति हैं।

married 1Image Source:

ऐसा ही कुछ आपको कुछ देखने को मिलता है हिमाचल के किन्नौर क्षेत्र में, इस क्षेत्र में दुल्हन परिवार के सभी भाइयो से ही शादी करती है। अभी तक जो खबरे इस क्षेत्र की आई हैं उनके अनुसार “शादी के बाद दुल्हन बारी-बारी से उन पुरुषों के साथ रहती है, सुनने में ये बड़ा अटपटा लगेगा, पर ये सच है। ऐसा किसी रस्म के तहत या खुशी से नहीं, बल्कि मजबूरी में किया जा रहा है। यहां बसी एक जाति और धर्म विशेष के लोगों में लड़कियों की कमी के चलते इस गांव के लोगों ने ये नियम बनाया है।”

married 2Image Source:

खबरो की मानें तो इस गांव में गिने-चुने ही ऐसे परिवार हैं जिनमें केवल एक पति है अन्यथा सभी घरों में एक ही महिला के एक से ज्यादा पति हैं। देखा जाये तो यह सब जो हो रहा है उस सबके जिम्मेदार हम सब ही हैं क्योंकि हमने अभी तक न तो बेटी के अस्तित्व को सही से स्वीकारा है और न ही उसके आने पर कभी पूरे दिल से उसका स्वागत किया है, न ही हमने उसको शिक्षा का अधिकार दिया है और न ही हमने उसको समाज में पूरा अधिकार दिया है बल्कि कुछ लोग आज भी बेटी के अस्तित्व को पैदा होने से पहले ही नष्ट कर देते हैं। हम लोगों को अपने भविष्य में यदि इस प्रकार की कोई परिस्थिति नहीं चाहिए तो हमें अब अपनी सभी गलतियों को सुधारना पड़ेगा।

Most Popular

To Top